स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>About me… Saleem Khan

>

मेरे बारे में (सन २००९ का लिखा हुआ)

  1. जन्मदिन 1 फ़रवरी, 1981 (Feb 1st, 1981)
  2. इमेल सम्पर्क का पता है सलीम एल के ओ एट जी मेल डॉट कॉम ( saleemlko@gmail.com)
  3. पैदा हुआ लखनउ के निशातगंज मोहल्ले में, बचपन बीता पीलीभीत (के एक छोटे से गाँव में नाम है-सिद्धनगर) (स्थाई पता) मे…….कई कई बार पीलीभीत से थोड़े थोड़े समय के लिये दूर हुए.लेकिन हर दूरी मे पीलीभीत से प्यार बढता गया. सन 1998 से लखनउ में रह रहा हूँ.  
  4. लेकिन अब पीलीभीत मे रहना मुश्किल, क्योंकि मुझे खेती करना पसंद नहीं.
  5. मैं पैदा हुआ सन्डे को (01 फ़रवरी 1981), सन्डे को मेरी शादी हुई (18 दिसम्बर 2005), सन्डे को ही मेरी बेटी की पैदाइश हुई (24 दिसम्बर 2006). ये सब खुशियाँ सन्डे को ही हुईं, एक बात और मेरी …….. भी सन्डे को ही हुई (02 नवम्बर 2008).
  6. साइकिल से सिर्फ एक बार गिरा, उससे लगी चोट अभी तक है बायें कंधे में,  लेकिन बाइक से कई बार गिरा और एक बार बड़ा फ्रेक्चर हुआ प्लास्टर चढा….
  7. बारिश मे भीगना बहुत पसन्द है, जाहिर बचपन मे कागज की नावें बहुत चलायी. हमारे वहाँ (पीलीभीत में)  हर साल बाढ़ आती है (थी) मैं उसमें कम गहरे गढ़हे में दुपट्टे से छोटी छोटी मछलियाँ पकड़ता था.
  8. बचपन मे मै बहुत शरारती नहीं था, मैं गाँव के शरीफों का सरदार था.
  9. मै अल्लाह मे विश्वास रखता हूँ.
  10. मै हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी, पंजाबी और भोजपुरी भाषायें बोल लेता हूँ.
  11. लेकिन मेरे को उर्दू भाषा सबसे अच्छी लगती है.
  12. कालेज टाइम मे सिनेमा देखने कई खुद का बना रेकार्ड तोड़ा…..अब  एकदम बन्द.
  13. बचपन में गन्ना चूसने का बहुत शौक था अब तो लखनउ में एक भी नहीं वजह आप सब को पता है.
  14. जिन्दगी मे काफी उतार चढाव देखे……अपनों को बदलते देखा, गैरों को हाथ बढाते देखा…शायद यही दुनिया है.
  15. जिन्दगी हर रोज कुछ ना कुछ नया सिखाती है, बहुत कुछ सीखा…….नही सीख पाया तो बस किसी से नफरत करना.
  16. मेरा मानना है प्यार के लिये जिन्दगी कम पड़ती है, नफरत के लिये कहाँ जगह है इसमे?
  17. मै किसी को बाय बाय नही कर सकता, मुझे बहुत दुःख होता है किसी को बाय बाय करने मे. लेकिन अगर मेरा दिल दुखाया वो भी किसी अज़ीज़ और अपने ने तो मन करता है उसकी मैं वाट लगा दूँ.
  18. जीवन मे अपनी माताजी से बहुत प्रेरित रहा, अब वो तो नही रही.
  19. साफ्टवेयर, तकनीक और इन्टरनेट मे बेहद तेज हूँ, लखनउ मे मेरे प्रतिद्वन्दी लोग मेरे बारे मे कहा करते थे, कि “ये गंजो को पहले कंघा, फिर आईना और फिर बाल उगाने वाला तेल भी बेच सकता है.” लेकिन मैं हकीक़त में ऐसा नहीं था.
  20. व्यापार के लिये एकदम अनफिट, पिछले अनुभव तो यही बताते है, शायद कई बार दिल से डिसीजन लिये इसलिये.
  21. पढाई के साथ साथ नौकरी मे भी हाथ आजमाया.
  22. कहते है हर सफल व्यक्ति के पीछे किसी महिला का हाथ होता है, अब मै किस का नाम लूँ? अब आप ही बताईये…ये भी सच ही है कि हर असफल आदमी के पीछे एक से ज्यादा औरतों का हाथ होता.
  23. नयी चीजें सीखने की लगन. परिश्रम से कभी पीछे नही हटे…..अरे..अरे…. ये तो मै अपनी तारीफ करने लगा.
  24. इस जीवन मे सब कुछ सम्भव है, सब कुछ……
  25. दोस्त एक भी नहीं. जो हैं वो सब … शायेद मैं यहीं सबसे ज्यादा अनलकी रहा.
  26. पहनने मे कोई खास पसन्द नही, जो मिला जैसा मिल ओढ लिया.
  27. राजनीतिक चर्चा से प्यार लेकिन राजनीतिज्ञों से बेहद चिढ, देश की तरक्की मे ये ही सबसे बढा रोड़ा बने है.
  28. भोजन मे मुगलाई खाना/व्यंजन काफी पसन्द.
  29. मै बेहद कोआपरेटिव हूँ, इतना कोआपरेटिव कि कभी कभी तो लोग शक करने लगते है. शक भी कैसा वही जो इंसानी फितरत में है नकारात्मक…
  30. सुबह सुबह जल्दी उठना पसन्द…… लेकिन क्या करें, आँख नहीं खुलती. हाँ आजकल रोजाना टहलने जरूर जाता हूँ, देखो कब तक चलता है ये सब.
  31. फेवरिट पास टाइम‍-पुरानी बातें करना. कभी कभी यही अपनों से झगडे कि वजह बन जाता है इसलिए अब कंट्रोल करता हूँ. पहले मैं पुरानी यादें याद किया करता था.  
  32. सपना-उस दिन का इन्तजार है, जब सभी भारतवासी आपस में मिलजुल कर रहना शुरू करेंगे.
  33. ब्लाग लिखने का मकसद, लोगों तक अपने विचार पहुँचाना और लोगो के विचारों तक पहुँचना. See Saleem’z Blog 
  34. बच्चों मे बच्चों जैसा बन जाता हूँ, बूढों मे बूढों जैसा और जवानो मे जवानो जैसा.
  35. मै मानता हूँ कि अनुभव ही सबसे अच्छा अध्यापक होता है.
  36. दुनिया मे सबसे कीमती चीज विश्वास है.

Filed under: About Me, स्वच्छसन्देश

लेख सन्दर्भ