स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>आखिर है क्या मुसलमानों की ये अज़ान?

>मुसलमान अज़ान में सम्राट अकबर का नाम क्यूँ लेते हैं? Why Name of Emperor Akbar in Adhan?” के बाद एक और ज्ञानवर्धक लेख हाज़िर है. बहुत से नॉन-मुस्लिम भाई बल्कि स्वयं मुस्लिम भी मस्जिद में दिन में पांच वक़्त बोली जाने वाली अज़ान के मायने और अर्थ नहीं जानते. जब अर्थ ही ही पता नहीं तो इसकी महत्ता कैसे पता चलेगी.


आईये मैं बताता हूँ अज़ान के बोल के अर्थ… कुछ इस तरह के बोल हैं अज़ान में: यह अरबी ज़ुबान के बोल हैं:-
अल्लाहु अकबर (चार बार) Allahu Akbar Allahu Akbar (twice)

अशहदु अन ला इलाहा इल्लल्लाह (दो बार ) Ashahadu an la ilaha illa Allah (twice)
अशहदु अन्ना मुहमदन रसूल्लुल्लाह (दो बार) Ashahadu ana Muhamadan Rasoollullah (twice)
हैया ‘अल-सलाह (दो बार) Haya ‘ala asalah (twice)
हैया ‘अलल फ़लाह (दो बार) Haya ‘ala al falah (twice)
अल्लाहु अकबर (दो बार) Allahu Akbar Allahu Akbar (once)
ला इलाहा इल्लल्लाह (एक बार) La ilaha ila Allah (once)


तो ये थे बोल अब मैं इसके मायने बताता हूँ;-

अल्लाहु अकबर” का अर्थ होता है “अल्लाह महान है

अशहदु अन ला इलाहा इल्लल्लाह” का अर्थ होता है “मैं गवाही देता हूँ; कोई उपास्य नहीं सिवाय अल्लाह के

अशहदु अन्ना मुहमदन रसूल्लुल्लाह” का अर्थ होता है “मैं गवाही देता हूँ; मुहम्मद (saw) अल्लाह के रसूल (दूत) हैं

हैया ‘अल-सलाह” का अर्थ होता है आओ नमाज़ की तरफ़

हैया ‘अलल फ़लाह” का अर्थ होता है आओ सफ़लता की ओर

ला इलाहा इल्लल्लाह” का अर्थ होता है “कोई उपास्य नहीं सिवाय अल्लाह के

उम्मीद करता हूँ आप सबको इसके मायने मालूम चल गए होंगे और अज़ान का सन्देश भी…

सलीम खान

Filed under: अज़ान का अर्थ

लेख सन्दर्भ

सलीम खान