स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>अगर कल सलीम ख़ान की मृत्यु हो जाती, तो !!! Saleem Khan injured yesterday!!!

>

एकबारगी तो मुझे लगा कि आज मेरी मौत हो जायेगी और आँखों के सामने कुछ सेकंड तक अँधेरा भी छ गया था. जो हुआ वह इतनी रफ़्तार में हुआ कि सँभालने का मौक़ा ही नहीं मिला. कल हो सकता था कि मेरी मृत्यु हो जाती लेकिन शायेद नियति को यह मंज़ूर नहीं था
हुआ यूँ कि कल मैं ऑफिस के काम से कहीं जा रहा था. और एक जगह पर बाईक रोक दी थी. जहाँ बाईक रोकी थी उसी के दाहिनी तरफ एक कार खड़ी थी और वह भी रुकी हुई थी. मैं वहां मात्र दो या तीन सेकंड ही रुका था. और आगे बढ़ने के लिए पहला गियर लगाया ही था कि अचानक कार ड्राईवर ने बिना अपने बाएं तरफ देखे गाड़ी पीछे की तरफ़ हलकी सी बढ़ा दी थी. वह कार मुझसे सिर्फ हलकी सी स्पर्श ही कर पाए थी, लेकिन मेरा खड़े खड़े ही बैलेंस बिगड़ गया और मैं अपने दाहिने तरह गिर गया. यहाँ तक ठीक था बस घुटनों के बल गिरने की वजह से घुटनों में ही चोट आई थी लेकिन जिस वक़्त मैं नीचे गिरा उसी वक़्त एक टैक्सी बहुत तेज़ी से आ रही थी और उस टैक्सी का बम्पर मेरी बाईक से लड़ता हुआ मेरी खोपड़ी (हेलमेटशुदा) में बहुत ज़ोर से लगा और मैं दूर छिटक कर गिर पड़ा…
यह पूरा हादसा महज़ चंद सेकंडों में हुआ. तभी दो लोग आये और उन्होंने मुझे उठाया और सहारा देकर बाईक पकड़ा दी. मेरे घुटने में बहुत दर्द हो रहा था. और मेरी हथेली भी थोड़ी सी छिल गयी थी…
अब मैं संभल चुका था टैक्सी वाला जा चुका था और कार वाला भी जा चुका था. मेरी जो हालत थी वह तो थी ही लेकिन मुझे अपनी बाईक की हालत देखी नहीं गयी… बाईक के आगे वोयिज़र एक तरफ़ से पूरी तरह से टूट चुका था और और क्लच हैंडिल टूट गया था (गनीमत थी कि क्लच वायर नहीं टुटा था) आगे का मडगार्ड टूट गया था… कुल मिला कर गाडी की पूरी तरह से वाट लग गयी थी…
ख़ैर! हिम्मत करके मैंने अपनी टूटीफूटी बाईक स्टार्ट की और अपने ऑफिस आ गया. फ़िर मैंने पड़ोस के डॉ एजाज़ क्लिनिक से ट्रीटमेंट कराया और अपनी गाडी दुरुस्त करके को क़ैसरबाग़ के मशहूर मामू मकेनिक के यहाँ अपनी गाडी बनवाई. पुरे 900 रूपये का चुना लग गया….
अब आप सोच रहे होंगे कि यह आपबीती सूना कर कहना क्या चाहता है….
तो भैया मैं आपको बता दूं अगर मैंने हेलमेट नहीं लगाया होता तो मेरा सिर पके खरबूजे की तरह फट गया होता जब टैक्सी का बम्पर मेरी खोपड़ी से टकराया था…

ब्लोगर बन्धुवों अगर आप बाईक चलाते वक़्त हेलमेट यूज़ नहीं करते तो करना शुरू कर दीजिये क्यूंकि हेलमेट पर खर्च की गए क़ीमत सिर्फ एक टक्कर में ही वसूल हो जाती है…

अगर हेलमेट न होता तो पता नहीं मैं किस अस्पताल में पड़ा होता !!!

Filed under: Uncategorized

61 Responses

  1. >सही कह रहे हैं आप …… शुक्र है की आपको चोट नहीं आयी…. बाईक तो नयी भी आ जाएगी

  2. >सही कह रहे हैं आप …… शुक्र है की आपको चोट नहीं आयी…. बाईक तो नयी भी आ जाएगी

  3. >अकबर भाई क्या लविज़ा आपकी बिटिया है?

  4. >अकबर भाई क्या लविज़ा आपकी बिटिया है?

  5. >अल्‍लाह का शुक्र है आप बच गये, वेसे हेलमेट में क्‍या दम है जो आपको बचा ले, बचने में सर्वधर्म के ब्‍लागरों की दुआऐं शामिल थी, बाइक का फोटू खींच के रखना जब हम अवध आऐंगे तो दिखाना, बस अब देर ना करो विज्ञान पे लग जाओ, आपकी आगे की उम्र विज्ञान पर खर्च होनी चाहिएअवधिया चाचाजो कभी अवध न गया

  6. >अल्‍लाह का शुक्र है आप बच गये, वेसे हेलमेट में क्‍या दम है जो आपको बचा ले, बचने में सर्वधर्म के ब्‍लागरों की दुआऐं शामिल थी, बाइक का फोटू खींच के रखना जब हम अवध आऐंगे तो दिखाना, बस अब देर ना करो विज्ञान पे लग जाओ, आपकी आगे की उम्र विज्ञान पर खर्च होनी चाहिएअवधिया चाचाजो कभी अवध न गया

  7. >क्या बात है अकबर भाई !!!मैंने ब्लॉग देखा, और मोबाइल वाला लेख भी…मेरी बेटी का नाम शिज़ा है

  8. >क्या बात है अकबर भाई !!!मैंने ब्लॉग देखा, और मोबाइल वाला लेख भी…मेरी बेटी का नाम शिज़ा है

  9. >चलिए खुदा का शुक्र आपको ज्यादा चोट नहीं आयी . बाइक वाकई खतरनाक चीज है . हेलमेट की सलाह सही है .

  10. >चलिए खुदा का शुक्र आपको ज्यादा चोट नहीं आयी . बाइक वाकई खतरनाक चीज है . हेलमेट की सलाह सही है .

  11. >सलीम भाई जरा संभल करके चलाकरिये, हेल्मट की वजह से मैं भी अपनी जान बचा चुका हूँ मगर अपने हाथ के इलाज मैं ६००००/- खर्च कर के .

  12. >सलीम भाई जरा संभल करके चलाकरिये, हेल्मट की वजह से मैं भी अपनी जान बचा चुका हूँ मगर अपने हाथ के इलाज मैं ६००००/- खर्च कर के .

  13. >सलीम भाई जरा संभल करके चलाकरिये, हेल्मट की वजह से मैं भी अपनी जान बचा चुका हूँ मगर अपने हाथ के इलाज मैं ६००००/- खर्च कर के .

  14. >सलीम भाई जरा संभल करके चलाकरिये, हेल्मट की वजह से मैं भी अपनी जान बचा चुका हूँ मगर अपने हाथ के इलाज मैं ६००००/- खर्च कर के .

  15. >खुदा का शुक्र है की आपको चोट नहीं लगी…. स्वस्थ बढ़िया रहे …शुभकामनाओ के साथ..

  16. >खुदा का शुक्र है की आपको चोट नहीं लगी…. स्वस्थ बढ़िया रहे …शुभकामनाओ के साथ..

  17. >शुभ शुभ बोलिए .. ये सब होता रहता है .. शुक्र है अधिक चोट नहीं आयी आपको !!

  18. >शुभ शुभ बोलिए .. ये सब होता रहता है .. शुक्र है अधिक चोट नहीं आयी आपको !!

  19. >चलिए आप सुरक्षित रहे यह सुखद है। आपका संदेश का भी पालन सुरक्षित रहने के लिये आवश्यक है।सादर श्यामल सुमन09955373288www.manoramsuman.blogspot.com

  20. >चलिए आप सुरक्षित रहे यह सुखद है। आपका संदेश का भी पालन सुरक्षित रहने के लिये आवश्यक है।सादर श्यामल सुमन09955373288www.manoramsuman.blogspot.com

  21. >अल्लाह की शिजा पे मेहर हैखुदा आपको लम्बी उम्रदे आप हिदुस्तान के सबसेउम्दा खयालात वाले इंसान बनेंएक इंसान के लिए एक इंसान की दुआएं है

  22. >अल्लाह की शिजा पे मेहर हैखुदा आपको लम्बी उम्रदे आप हिदुस्तान के सबसेउम्दा खयालात वाले इंसान बनेंएक इंसान के लिए एक इंसान की दुआएं है

  23. >हेलमेट का महत्व बहुत है। मुझे भी वह एक बार बचा चुका है। आप को बधाई, आप बच गए।

  24. >हेलमेट का महत्व बहुत है। मुझे भी वह एक बार बचा चुका है। आप को बधाई, आप बच गए।

  25. Meenu Khare says:

    >सलीम आप जैसी घटना मेरे साथ भी घट चुकी है और हेल्मेट के कारण ही मेरी भी जान बची थी. ईश्वर आपको चिरायु और यशवान करे.

  26. Meenu Khare says:

    >सलीम आप जैसी घटना मेरे साथ भी घट चुकी है और हेल्मेट के कारण ही मेरी भी जान बची थी. ईश्वर आपको चिरायु और यशवान करे.

  27. PD says:

    >चलिये, अंत भला तो सब भला.

  28. PD says:

    >चलिये, अंत भला तो सब भला.

  29. >अपना ध्यान रखिए मित्र…जान है तो जहान है

  30. >अपना ध्यान रखिए मित्र…जान है तो जहान है

  31. >भगवान ने बड़ी कृपा की और आप बच गये।मारने वाले से बचाने वाला बड़ा होता है!

  32. >भगवान ने बड़ी कृपा की और आप बच गये।मारने वाले से बचाने वाला बड़ा होता है!

  33. >" हेलमेट " पर लिखी अपनी कविता की यह पंक्तियाँ आपकी नज़्र कर रहा हूँ .. एक छुपा हुआ एलान है इसकी ठनक मेंखतरे घर में नहीं घर से बाहर हैं और बुद्धिमानी इसीमें है कि जहाँ जरूरी है वहीं ठीक है खतरों से खेलना-दुआओं के साथ शरद कोकास

  34. >" हेलमेट " पर लिखी अपनी कविता की यह पंक्तियाँ आपकी नज़्र कर रहा हूँ .. एक छुपा हुआ एलान है इसकी ठनक मेंखतरे घर में नहीं घर से बाहर हैं और बुद्धिमानी इसीमें है कि जहाँ जरूरी है वहीं ठीक है खतरों से खेलना-दुआओं के साथ शरद कोकास

  35. >आप सलामत है यह ऊपर वाले का करम है . बिना उसकी मर्जी के पत्ता नहीं हिलता हेलमेट तो एक बहाना है . वैसे यह जल्दवाज़ ड्राइवर से खुद ही बचे इनका बस चले तो सब के ऊपर से निकल जाए .

  36. >आप सलामत है यह ऊपर वाले का करम है . बिना उसकी मर्जी के पत्ता नहीं हिलता हेलमेट तो एक बहाना है . वैसे यह जल्दवाज़ ड्राइवर से खुद ही बचे इनका बस चले तो सब के ऊपर से निकल जाए .

  37. >हैलमेट पहनो वह भी गुणवत्ता वाला. मैं अमल नहीं करता मगर अब करना पड़ेगा….

  38. >हैलमेट पहनो वह भी गुणवत्ता वाला. मैं अमल नहीं करता मगर अब करना पड़ेगा….

  39. >अभी सलीम खान को विज्ञान लेखन में धमाल मचानी है, फिर ऐसा वैसा कैसे हो जाता?ह ह हा।वैसे पांच साल पहले मेरा भी एक्सीडेंट हुआ था। अगर मैंने भी हेलमेट न लगाया होता, तो मेरा भी काम तमाम हो गया होता।इसीलिए मैं शुरू से ही हेलमेट पहनता हूँ।हाँ, जो लोग न पहनते हों, वे संजय बेंगाणी जी की तरह सीख ले सकते हैं।——–हर बाशिन्दा महफू़ज़ रहे, खुशहाल रहे।छोटी सी गल्ती जो बडे़-बडे़ ब्लॉगर करते हैं।

  40. >हेलमेट की महत्ता आपने फिर से साबित की है. शुक्र है आप स्वस्थ है. ब्लोगर ने यह निर्देश दिया है सबके लिए मान्य होना चाहिए. आप खुश रहे और लिखते रहें.

  41. >हेलमेट की महत्ता आपने फिर से साबित की है. शुक्र है आप स्वस्थ है. ब्लोगर ने यह निर्देश दिया है सबके लिए मान्य होना चाहिए. आप खुश रहे और लिखते रहें.

  42. >सलीम भाई आप के लम्बी उम्र की कामना है ! आप के साथ घटी ये घटना ब्लॉग जगत के बाईकरों के लिए एक गहरी सीख है ! आप भाग्यशाली है !

  43. >सलीम भाई आप के लम्बी उम्र की कामना है ! आप के साथ घटी ये घटना ब्लॉग जगत के बाईकरों के लिए एक गहरी सीख है ! आप भाग्यशाली है !

  44. >लाहौल -विला-कुव्वत…..बेचारा हेलमेट…..

  45. >लाहौल -विला-कुव्वत…..बेचारा हेलमेट…..

  46. >हम जैसों को बहुत संभल कर रहना होगा…. मैं तो बाईक अस्सी-नब्बे से नीचे चलाता ही नहीं हूँ….. कई बार तो हेलमेट ही उड़ते उड़ते बचा है….. हवाई-जहाज़ के ड्राईवर भी शर्मा जाते हैं….. मुझे बाईक चलाते देख…… मुझे कई जगह हेलमेट पहन्न्ने पड़ते हैं….. सर पे, पाँव में, हाथ में, पेट में…. और भी कई जगह…..

  47. >हम जैसों को बहुत संभल कर रहना होगा…. मैं तो बाईक अस्सी-नब्बे से नीचे चलाता ही नहीं हूँ….. कई बार तो हेलमेट ही उड़ते उड़ते बचा है….. हवाई-जहाज़ के ड्राईवर भी शर्मा जाते हैं….. मुझे बाईक चलाते देख…… मुझे कई जगह हेलमेट पहन्न्ने पड़ते हैं….. सर पे, पाँव में, हाथ में, पेट में…. और भी कई जगह…..

  48. >अच्‍छी सोच रखोगे तो अच्‍छा ही पाओगे, भगवान को धन्‍यवाद देता हूँ कि उसने आपकी रक्षा की। हेलमेट तो बहुत जरूरी होता है, बिना हेममेट दोपहिया वाहनो की सावरी नही करना चाहिये। आपने बड़ी त्वारित पोस्‍ट दी, आर्थात आप कुशल है, आपको उठाने वाले कौन थे हिन्‍दू/मु‍समान या और कोई आफत के समय जो काम आये वही भगवान होता है।

  49. >अच्‍छी सोच रखोगे तो अच्‍छा ही पाओगे, भगवान को धन्‍यवाद देता हूँ कि उसने आपकी रक्षा की। हेलमेट तो बहुत जरूरी होता है, बिना हेममेट दोपहिया वाहनो की सावरी नही करना चाहिये। आपने बड़ी त्वारित पोस्‍ट दी, आर्थात आप कुशल है, आपको उठाने वाले कौन थे हिन्‍दू/मु‍समान या और कोई आफत के समय जो काम आये वही भगवान होता है।

  50. >अल्लाह का शुक्र है जी जो आपको ज्यादा चोट नही लगीनियम बनाये ही इसलिये जाते हैं ताकि हम मुश्किलों से बचे रहेंप्रणाम स्वीकार करें

  51. >अल्लाह का शुक्र है जी जो आपको ज्यादा चोट नही लगीनियम बनाये ही इसलिये जाते हैं ताकि हम मुश्किलों से बचे रहेंप्रणाम स्वीकार करें

  52. 'अदा' says:

    >ईश्वर की असीम अनुकम्पा कि आप सकुशल हैं…भगवान् के सामने अपनी प्यारी बिटिया और बेग़म के साथ शीश नवाइये..बड़ों का आशीर्वाद लीजिये…ईश्वर की कृपा आप पर और आपके प्रियजनों पर बनी रहे…यही प्रार्थना है…

  53. >भगवन का लाख-लाख शुक्र है की आप बच गए ,आज इस दुनिया में कोई भी कहीं भी सुरक्षित नहीं है …?

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: