स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>वेद और कुरआन – कितने दूर कितने पास Similarities between Ved and Qur’an – Part 4

>

=======
पिछले अंक पढने के लिए निम्न लिंक पर चटका लगाये

वेद और कुरआन – कितने दूर कितने पास (All Parts)
======
मत्स्य पुराण में मनु की कथा”
तब भगवान् मनु से यूँ बोले ‘ठीक है, ठीक है. तुमने मुझे भलीभांति पहचान लिया है, हे भूपाल ! थोड़े ही समय में पर्वत वन और उपवन से सहित यह पृथ्वी जल में मग्न हो जायेगी. इस कारण हे पृथ्वीपते! सभी जीव समूहों की रक्षा करने के लिए समस्त देवगणों द्वारा इस नौका का निर्माण किया गया है. सुव्रत ! जितने पसीने से उत्पन्न, अण्डों से उत्पन्न, और पृथ्वी से उत्पन्न जीव हैं तथा जितने गर्भ से उत्पन्न जीव हैं, उन सभी को इस नौका में चढ़ा कर तुम सबकी रक्षा करना. इसके बाद पृथ्वीपते प्रलय की समाप्ति में तुम जगत के अचल चल प्राणियों के प्रजापति होगे.तब सातों समुन्द्र एकमेव हो जायेंगे और इन तीनों लोकों को पूर्णरूप से एक ही आकार में रूपांतरित कर देंगे. सुव्रत उस वक़्त तुम इस वेद रुपी नौका को ग्रहण करके इस पर समस्त जीवों और बीजों को लाद देना.

देखा आपने कहानी एक ही है बस फ़र्क़ है तो बस उच्चारण का! नूह और मनु !! दोनों एक ही है!!!
और लीजिये भविष्य पुराण की कथा जिसमें यह फ़र्क़ भी नहीं है.

भविष्य पुराण में नाम का भी फ़र्क़ भी नहीं

एक बार विष्णु (ईश्वर) ने स्वप्न में कहा ‘हे वत्स न्युह ! यह मेरा वचन सुन लो, आज के सातवें दिन में प्रलय होगा और और तुम नाव में शीघ्र समारोहन करके जीवन की रक्षा करना. हे भक्तेंद्र! तू सर्वश्रेष्ठ हो जायेगा. उस ख्वाब में दी गयी आज्ञा को तू स्वीकार करके उस ने मज़बूत और बड़ी और नाव बनाई जो ३०० हाँथ लम्बी थी और ५० हाँथ चौड़ी थी. यह तीस हाँथ ऊँची और बहुत आकर्षक थी समस्त जीवों से भरी हुई थी. उस नौका पर अपने कुलों के साथ प्रवेश किया और विष्णु (ईश्वर) के ध्यान में लीं हो गए. वहां ४० दिन तक घोर वर्ष हुई. यह सम्पूर्ण भारत वर्ष जालों मेंप्लावित होकर सिन्धु बन गया. चारो सागर मिल गए. चारो ओर कोई जीव नज़र नहीं आ रहा था सिवाय न्युह व ब्रह्मवादी मुनि! न्युह अपने कुलों के साथ वहां था और जल की वर्ष समाप्त हो गयी….

अगले अंक में पढ़े:
तो क्या बाइबल और कुर-आन में मनु की कथा की पुराणों से नक़ल की गयी है?

::चलते चलते::
ईश्वर के नियम नहीं बदलते– ऋग्वेद (१:२४:१०)
अर्थात जो यह कहते है कि हमारा धर्म परिवर्तनशील है वह अन्धकार में है, क्यूंकि यह स्पष्ट है कि ईश्वर के नियम कभी नहीं बदलते बल्कि हर युग हर काम में यकसां ही होते हैं.

Filed under: वेद और कुरआन

6 Responses

  1. >अरे वाह खान साहब आपतो शास्‍त्री बन गये हो, खेर इस नौका के कोई दर्शन करना चाहे तो हम वह ढूंड लाये, तबतब जो नौका में सवार हुआ बच गया, अब जो दर्शन कर लेगा उसका कल्‍याण होगा,मनु में दिलचस्‍पी रखने वालों के लिये खास तोहफा कश्‍ती-ए-नूह(मनु) को पुरातत्ववेत्ताओं ने आखिर ख़ोज ही निकालाडायरेक्‍ट लिंक

  2. >अरे वाह खान साहब आपतो शास्‍त्री बन गये हो, खेर इस नौका के कोई दर्शन करना चाहे तो हम वह ढूंड लाये, तबतब जो नौका में सवार हुआ बच गया, अब जो दर्शन कर लेगा उसका कल्‍याण होगा,मनु में दिलचस्‍पी रखने वालों के लिये खास तोहफा कश्‍ती-ए-नूह(मनु) को पुरातत्ववेत्ताओं ने आखिर ख़ोज ही निकालाडायरेक्‍ट लिंक

  3. >अगर तुम मानते हो इस्लाम इस देश में बड़ी कॉम है तो मुसलमानों से कहो खुद को अल्पसंख्यक कहना बंद करे !!मुसलमान पहले तो इस्लाम के नाम पर अलग देश मांग चुके है अब सारे मांग नाजायज़ है ,जिसे सब इस्लाम के मुताबिक चाहिए वो जाए पाकिस्तान जा के बस जाए ,वहा सब सरियत के मुताबिक मिलेगा !!!या फिर एक काम करो …शरियत के मुताबिक चार शादी का हक़ चाहिए तुम्हे , और वन्दे मातरम भी तुम्हे गवारा नहीं तो सज़ा वाले मामले में क्यों शरियत की मांग नहीं करते हो क्यों नहीं कहते हो जो मुसलमान चोरी करते पकडा जाए उसके दोनों हाथ कलाई से काट दो ??? ,साउदी वाला कानून मांगो अपने लिए अगर तुम दोगले नहीं हो तो ??? नसबंदी तुम्हे मंज़ूर नहीं अल्लाह ने कहा है "तागैयल खल्द उलाह " यानी अल्लाह की बनावट से छेड़ छाड़ नहीं करनी चाहिए,तो बवासीर और हार्निया का ओपरेशन,बाईपास सर्जरी और सिजेरियन डेलेवेरी क्यों करवाते हो ?यानि फ़ायदा जहा होगा तुम्हारा वहा सिर्फ बाप को बाप बोलोगे ,जहा नुकसान होता दिखे तुंरत पडोसी का हाथ थाम कर पापा पापा बोल के झूलने लगोगे !ज़ाकिर फर्जी है! इस विडियो में देखो सूअर खाने वालो के डिजाइन के कपडे पहने है और तो और देखो पैंट भी एड्हियो तक लम्बी है मै शुरू से कह रहा हूँ के वो ईमान का मुकम्मल है ही नहीं आज अंग्रेजी कपडे पहने दिख रहा है ज़रूर गोस्त भी अंग्रेजो वाले खाता होगा,छुप कर ज़रूर हरकत भी वही करता होगा

  4. >अगर तुम मानते हो इस्लाम इस देश में बड़ी कॉम है तो मुसलमानों से कहो खुद को अल्पसंख्यक कहना बंद करे !!मुसलमान पहले तो इस्लाम के नाम पर अलग देश मांग चुके है अब सारे मांग नाजायज़ है ,जिसे सब इस्लाम के मुताबिक चाहिए वो जाए पाकिस्तान जा के बस जाए ,वहा सब सरियत के मुताबिक मिलेगा !!!या फिर एक काम करो …शरियत के मुताबिक चार शादी का हक़ चाहिए तुम्हे , और वन्दे मातरम भी तुम्हे गवारा नहीं तो सज़ा वाले मामले में क्यों शरियत की मांग नहीं करते हो क्यों नहीं कहते हो जो मुसलमान चोरी करते पकडा जाए उसके दोनों हाथ कलाई से काट दो ??? ,साउदी वाला कानून मांगो अपने लिए अगर तुम दोगले नहीं हो तो ??? नसबंदी तुम्हे मंज़ूर नहीं अल्लाह ने कहा है "तागैयल खल्द उलाह " यानी अल्लाह की बनावट से छेड़ छाड़ नहीं करनी चाहिए,तो बवासीर और हार्निया का ओपरेशन,बाईपास सर्जरी और सिजेरियन डेलेवेरी क्यों करवाते हो ?यानि फ़ायदा जहा होगा तुम्हारा वहा सिर्फ बाप को बाप बोलोगे ,जहा नुकसान होता दिखे तुंरत पडोसी का हाथ थाम कर पापा पापा बोल के झूलने लगोगे !ज़ाकिर फर्जी है! इस विडियो में देखो सूअर खाने वालो के डिजाइन के कपडे पहने है और तो और देखो पैंट भी एड्हियो तक लम्बी है मै शुरू से कह रहा हूँ के वो ईमान का मुकम्मल है ही नहीं आज अंग्रेजी कपडे पहने दिख रहा है ज़रूर गोस्त भी अंग्रेजो वाले खाता होगा,छुप कर ज़रूर हरकत भी वही करता होगा

  5. kulu says:

    >vedo ki tulanna kuran se nahi ki ja sakti hai kunki usma ek allah ko poojneya mana gaya hai jabki vedo me kai devtaoo ki pooja hai. example Indra and agni Rudra etc. vedo ma meet khana mana hai kawal shatirya hi maas khana ki choot hai. wo bhi tabhi kha sata hai jab pashu ko vedik mantro dwara pavitra kar diya gaya ho. aur baad ma shatirya bhi rajpaat ka tyaag karka sanyaas lana ko kaha gaya hai. mass khana ko isliya choot hai koynki shatriya ka dharam war hota hai aur war ka liya balwaan hona chaahiya. isliya. kuran ko baad ma mohmaad dwara lika gaya hai isliya isma nuhu ki katha other pavitra garntho se churakar liki gayi hai.

  6. kulu says:

    >vedo ki tulanna kuran se nahi ki ja sakti hai kunki usma ek allah ko poojneya mana gaya hai jabki vedo me kai devtaoo ki pooja hai. example Indra and agni Rudra etc. vedo ma meet khana mana hai kawal shatirya hi maas khana ki choot hai. wo bhi tabhi kha sata hai jab pashu ko vedik mantro dwara pavitra kar diya gaya ho. aur baad ma shatirya bhi rajpaat ka tyaag karka sanyaas lana ko kaha gaya hai. mass khana ko isliya choot hai koynki shatriya ka dharam war hota hai aur war ka liya balwaan hona chaahiya. isliya. kuran ko baad ma mohmaad dwara lika gaya hai isliya isma nuhu ki katha other pavitra garntho se churakar liki gayi hai.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: