स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>ज्योतिषियों, तान्त्रिकों और चमत्कार का दावा करने वालों को सलीम खान की खुली चुनौती

>

तान्त्रिकों, ज्योतिषियों और चमत्कार का दावा करने वाले विश्व के तमाम बाबाओं को खुली चुनौती जो व्यक्ति चमत्कारी शक्तियों का दावा करते हैं, केवल पाखंडी या दिमागी तौर पर पागल व्यक्ति हैं।

तान्त्रिकों, ज्योतिषियों और चमत्कार का दावा करने वाले तमाम बाबाओं को खुली चुनौती देते हुए मैं उनके सामने 22 चुनौतियाँ रख रहा हूँ और यह घोषणा कि जो भी व्यक्ति इनमें से एक चुनौती में भी खरा उतर कर दिखाएगा, उसे नकद इनाम दिया जाएगा निम्न प्रकार के कार्य धोखारहित परिस्थितियों में करके दिखाने वाले व्यक्ति इनाम जीत सकते हैं-

1- जो किसी सीलबंद करेंसी नोट की ठीक नकल पैदा कर सकता हो।
2- जो किसी सीलबंद करेंसी नोट का नंबर पढ सकता हो।
3- जो जलती आग में अपने देवता की सहायता से आधे मिनट के लिए नंगे पैर खडा हो सकता हो।
4- ऐसी वस्तु जो मैं मांगूं, हवा में से प्रस्तुत कर दे।
5- टेलीपैथी द्वारा किसी दूसरे व्यक्ति के विचार पढ कर बता सकता हो।
6- मनोवैज्ञानिक शक्ति से किसी वस्तु को हिला या मोड सकता हो।
7- प्रार्थना द्वारा, आत्मिक शक्ति द्वारा गंगा जल द्वारा या पवित्र राख से अपने शरीर को एक इंच बढा सकता हो।
8- जो योग शक्ति द्वारा हवा में उड सके। (स्वामी जी ध्यान दें)
9- यौगिक शक्ति से पांच मिनट के लिए अपनी नब्ज रोक सके
10- पानी पर पैदल चल सके।
11- अपना शरीर एक स्थान पर छोड कर दूसरी जगह हाजिर हो
12- यौगिक शक्ति द्वारा 30 मिनट के लिए श्वास क्रिया रोक सके।
13- रचनात्मक बुद्धि का विकास करे। भक्ति या अज्ञात शक्ति द्वारा अत्मज्ञान प्राप्त करे।
14- पुनर्जन्म के तौर पर कोई अनोखी भाषा बोल सके
15- ऐसी आत्मा या प्रेत हाजिर करे, जिसकी फोटो खींची जा सकती हो।
16- फोटो खींचने के बाद वह फोटो से अलोप हो सके।
17- ताला लगे कमरे में से अलौकिक शक्ति द्वारा बाहर निकल सके।
18- किसी बस्तु का भार बढा सके।
19- छिपी हुई वस्तु को खोज सके
20- पानी को शराब या पेट्रोल में बदल सके।
21- शराब को रक्त में बदल सके।
22- ऐसे ज्योतिषी या पण्डे, जो यह कह कर लोगों को गुमराह करते हैं कि ज्योतिष तथा हस्त रेखा वैज्ञानिक हैं, मेरे इनाम को जीत सकते हैं। यदि वे दस चित्रों या दस पत्रियों को देख कर आदमियों तथा औरतों की (समय आने पर) अलग अलग संख्या, जीवित तथा मरे की अलग अलग संख्या बता सकें या जन्म का ठीक समय और स्थान अक्षांस और देशान्तर रेखाओं सहित बता सकें। इसमें 5 प्रतिशत की गल्तियों की छूट होगी।

::चलते चलते::
मैं हिंदी ब्लॉग जगत के उन ब्लॉगरों को भी चुनौती देता हूँ जो रोज़-रोज़ ज्योतिष पर लिखते रहते है, अगर वे यह चुनौती स्वीकार कर दिखा दे तो मैं ब्लोगिंग छोड़ दूंगा!
Advertisements

Filed under: सलीम खान की चुनौती, स्वच्छ सन्देश की चुनौती

33 Responses

  1. >ज्योतिषियों, तान्त्रिकों और चमत्कार का दावा करने वालों को सलीम खान की खुली चुनौती

  2. सलीम ख़ान कहते हैं:

    >ज्योतिषियों, तान्त्रिकों और चमत्कार का दावा करने वालों को सलीम खान की खुली चुनौती

  3. ab inconvinienti कहते हैं:

    >साल के पहले दिन पैदा हुआ, जिंदगी भर पहले नंबर पर रहा, हर बेवकूफ को सबसे पहले ठिकाने लगाने, अन्याय से लड़ने में नंबर वन हूँ मैं, आ रहा हूँ तेरे ब्लॉग को रौंदने. रौंद डालूँगा कुचल डालूँगा कचूमर बना दूंगा कच्चा खा जाऊंगा इतना परेशान करूँगा की तेरी आने वाली सात पुश्तें गंजी पैदा होंगी. सलीम खान पहले विचार कर :तुम एक पागल मनोरोगी बाल बलात्कारी द्वारा चलाए कबाइली मज़हब को छोड़ कर अरब का पुराना धर्म ज्यूडिस्म अपना लो या मुश्रीक बन जाओ या मेरी तरह नास्तिक हो जाओ. क्या धरा है एक सिजोफ्रेनिक-पीडोफाइल मनोरोगी की किताब को अंतिम सत्य मानाने में और फालतू टाइम खोटी करने में?ab inconvenienti का अब तक का सब से बड़ा चैलेन्ज :58 साल के पैगम्बर मुहम्मद साहेब ने 9 साल की आयशा के साथ क्या किया था? बताने वाला सच्चा आलिम.

  4. ab inconvinienti कहते हैं:

    >साल के पहले दिन पैदा हुआ, जिंदगी भर पहले नंबर पर रहा, हर बेवकूफ को सबसे पहले ठिकाने लगाने, अन्याय से लड़ने में नंबर वन हूँ मैं, आ रहा हूँ तेरे ब्लॉग को रौंदने. रौंद डालूँगा कुचल डालूँगा कचूमर बना दूंगा कच्चा खा जाऊंगा इतना परेशान करूँगा की तेरी आने वाली सात पुश्तें गंजी पैदा होंगी. सलीम खान पहले विचार कर :तुम एक पागल मनोरोगी बाल बलात्कारी द्वारा चलाए कबाइली मज़हब को छोड़ कर अरब का पुराना धर्म ज्यूडिस्म अपना लो या मुश्रीक बन जाओ या मेरी तरह नास्तिक हो जाओ. क्या धरा है एक सिजोफ्रेनिक-पीडोफाइल मनोरोगी की किताब को अंतिम सत्य मानाने में और फालतू टाइम खोटी करने में?ab inconvenienti का अब तक का सब से बड़ा चैलेन्ज :58 साल के पैगम्बर मुहम्मद साहेब ने 9 साल की आयशा के साथ क्या किया था? बताने वाला सच्चा आलिम.

  5. ab inconvinienti कहते हैं:

    >साल के पहले दिन पैदा हुआ, जिंदगी भर पहले नंबर पर रहा, हर बेवकूफ को सबसे पहले ठिकाने लगाने, अन्याय से लड़ने में नंबर वन हूँ मैं, आ रहा हूँ तेरे ब्लॉग को रौंदने. रौंद डालूँगा कुचल डालूँगा कचूमर बना दूंगा कच्चा खा जाऊंगा इतना परेशान करूँगा की तेरी आने वाली सात पुश्तें गंजी पैदा होंगी.सलीम खान पहले विचार कर :तुम एक पागल मनोरोगी बाल बलात्कारी द्वारा चलाए कबाइली मज़हब को छोड़ कर अरब का पुराना धर्म ज्यूडिस्म अपना लो या मुश्रीक बन जाओ या मेरी तरह नास्तिक हो जाओ. क्या धरा है एक सिजोफ्रेनिक-पीडोफाइल मनोरोगी की किताब को अंतिम सत्य मानाने में और फालतू टाइम खोटी करने में?ab inconvenienti का अब तक का सब से बड़ा चैलेन्ज :58 साल के पैगम्बर मुहम्मद साहेब ने 9 साल की आयशा के साथ क्या किया था? बताने वाला सच्चा आलिम.

  6. ab inconvinienti कहते हैं:

    >साल के पहले दिन पैदा हुआ, जिंदगी भर पहले नंबर पर रहा, हर बेवकूफ को सबसे पहले ठिकाने लगाने, अन्याय से लड़ने में नंबर वन हूँ मैं, आ रहा हूँ तेरे ब्लॉग को रौंदने. रौंद डालूँगा कुचल डालूँगा कचूमर बना दूंगा कच्चा खा जाऊंगा इतना परेशान करूँगा की तेरी आने वाली सात पुश्तें गंजी पैदा होंगी.सलीम खान पहले विचार कर :तुम एक पागल मनोरोगी बाल बलात्कारी द्वारा चलाए कबाइली मज़हब को छोड़ कर अरब का पुराना धर्म ज्यूडिस्म अपना लो या मुश्रीक बन जाओ या मेरी तरह नास्तिक हो जाओ. क्या धरा है एक सिजोफ्रेनिक-पीडोफाइल मनोरोगी की किताब को अंतिम सत्य मानाने में और फालतू टाइम खोटी करने में?ab inconvenienti का अब तक का सब से बड़ा चैलेन्ज :58 साल के पैगम्बर मुहम्मद साहेब ने 9 साल की आयशा के साथ क्या किया था? बताने वाला सच्चा आलिम.

  7. Suresh Chiplunkar कहते हैं:

    >हा हा हा हा हा हा… श्रीलंका के डॉ कोवूर द्वारा सालों पहले किये गये चैलेंज को फ़ेरबदल करके अपना बताते शर्म नहीं आती सलीम…। लिखने के लिये कुछ बचा नहीं क्या, जो ये पुराने-सुराने लेख चेपते रहते हो…। चलो उठो,,, एक अच्छे मुसलमान की तरह वेदों और हिन्दू ग्रन्थों में से कमियाँ, गलतियाँ निकालना शुरु करो… तुम्हारे जैसे "विद्वान" को ये ज्योतिषियों वगैरह से उलझना शोभा नहीं देता… तुम्हारी फ़ील्ड एक ही है, ज़ाकिर नायक के लेखों को चेपना… 🙂

  8. Suresh Chiplunkar कहते हैं:

    >हा हा हा हा हा हा… श्रीलंका के डॉ कोवूर द्वारा सालों पहले किये गये चैलेंज को फ़ेरबदल करके अपना बताते शर्म नहीं आती सलीम…। लिखने के लिये कुछ बचा नहीं क्या, जो ये पुराने-सुराने लेख चेपते रहते हो…। चलो उठो,,, एक अच्छे मुसलमान की तरह वेदों और हिन्दू ग्रन्थों में से कमियाँ, गलतियाँ निकालना शुरु करो… तुम्हारे जैसे "विद्वान" को ये ज्योतिषियों वगैरह से उलझना शोभा नहीं देता… तुम्हारी फ़ील्ड एक ही है, ज़ाकिर नायक के लेखों को चेपना… 🙂

  9. Suresh Chiplunkar कहते हैं:

    >@ ab inconvenienti – बहुत बढ़िया…

  10. Suresh Chiplunkar कहते हैं:

    >@ ab inconvenienti – बहुत बढ़िया…

  11. अनुनाद सिंह कहते हैं:

    >सलीम अब सही लाइन पर आये हो! लेकिन बाबाओं को चुनौती देने से पहले यही काम मोहम्मद और कुरान से करना चाहिये। मोहम्मद भी एक 'बाबा' ही था जो अरब में पैदा हुआ।हिन्दुओं के छ: प्रमुख दर्शन-शास्त्रों में से एक है – "न्याय दर्शन" । इसका पहला ही सूत्र हमे बहुत बड़ा वैज्ञानिक और तर्कशास्त्री बनने का संदेश देता है और कहता है कि-प्रमाणप्रमेयसंशयप्रयोजनदृष्टान्तसिद्धान्तअवयवतर्कनिर्णयवादजल्पवितण्डाहेत्वाभासछलजातिनिग्रहस्थानानां तत्वज्ञान्निश्रेयसाधिगम: ।अर्थात,प्रमाण, प्रमेय, संशय, प्रयोजन, दृष्टान्त, सिद्धान्त, अवयव, तर्क, निर्णय, वाद, जल्प, वितण्डा, हेत्वाभास, छल, जाति, तथा निग्रहस्थानान – इन सोलह तत्वों का तत्वज्ञान 'मोक्ष' देने वाला है।इसलिये हिन्दू किसी पागल के कहने से कि उसे 'अल्लाह ने सम्देश दिया है' आंख मूंदकर नहीं मान लेते। उनके पास दुनिया का सर्वश्रेष्ठ 'दर्शन' मौजूद है।

  12. अनुनाद सिंह कहते हैं:

    >सलीम अब सही लाइन पर आये हो! लेकिन बाबाओं को चुनौती देने से पहले यही काम मोहम्मद और कुरान से करना चाहिये। मोहम्मद भी एक 'बाबा' ही था जो अरब में पैदा हुआ।हिन्दुओं के छ: प्रमुख दर्शन-शास्त्रों में से एक है – "न्याय दर्शन" । इसका पहला ही सूत्र हमे बहुत बड़ा वैज्ञानिक और तर्कशास्त्री बनने का संदेश देता है और कहता है कि-प्रमाणप्रमेयसंशयप्रयोजनदृष्टान्तसिद्धान्तअवयवतर्कनिर्णयवादजल्पवितण्डाहेत्वाभासछलजातिनिग्रहस्थानानां तत्वज्ञान्निश्रेयसाधिगम: ।अर्थात,प्रमाण, प्रमेय, संशय, प्रयोजन, दृष्टान्त, सिद्धान्त, अवयव, तर्क, निर्णय, वाद, जल्प, वितण्डा, हेत्वाभास, छल, जाति, तथा निग्रहस्थानान – इन सोलह तत्वों का तत्वज्ञान 'मोक्ष' देने वाला है।इसलिये हिन्दू किसी पागल के कहने से कि उसे 'अल्लाह ने सम्देश दिया है' आंख मूंदकर नहीं मान लेते। उनके पास दुनिया का सर्वश्रेष्ठ 'दर्शन' मौजूद है।

  13. Anil Pusadkar कहते हैं:

    >सलीम अच्छे से अच्छा काम अगर उसका तरीका गलत है तो वो अच्छा नही माना जाता।आडम्बर,झूठ,फ़रेब और अंध विश्वास के खिलाफ़ ईमानदारी से जंग छेड़ोगे तो आप पर कोई हंसेगा नही बल्कि सब साथ देंगे लेकिन आप का तो तरीका ही लोगों को उकसाने वाला होता है।इसी बात को बिना लाग लपेट के कह्ते तो लोग इस बात को हाथों हाथ लेते।कोई बात बुरी लगी हो तो नादान समझ कर माफ़ कर देना।

  14. Anil Pusadkar कहते हैं:

    >सलीम अच्छे से अच्छा काम अगर उसका तरीका गलत है तो वो अच्छा नही माना जाता।आडम्बर,झूठ,फ़रेब और अंध विश्वास के खिलाफ़ ईमानदारी से जंग छेड़ोगे तो आप पर कोई हंसेगा नही बल्कि सब साथ देंगे लेकिन आप का तो तरीका ही लोगों को उकसाने वाला होता है।इसी बात को बिना लाग लपेट के कह्ते तो लोग इस बात को हाथों हाथ लेते।कोई बात बुरी लगी हो तो नादान समझ कर माफ़ कर देना।

  15. Anonymous कहते हैं:

    >wah-wah..kya to pyar-mohobbat ka mahaul hai bhai…..jabardast bhaichara badh raha hai…SIMI khan khush ho raha hoga…nafarat ke beej bokar…khabees ki dum…kya aise hi ek chhat ke neeche aayenge sab????aayenge to dhara 377 lagu ho jayegi….aur sab mil ke marenge tumhari….

  16. Anonymous कहते हैं:

    >wah-wah..kya to pyar-mohobbat ka mahaul hai bhai…..jabardast bhaichara badh raha hai…SIMI khan khush ho raha hoga…nafarat ke beej bokar…khabees ki dum…kya aise hi ek chhat ke neeche aayenge sab????aayenge to dhara 377 lagu ho jayegi….aur sab mil ke marenge tumhari….

  17. प्रवीण शाह कहते हैं:

    >…"तान्त्रिकों, ज्योतिषियों और चमत्कार का दावा करने वाले विश्व के तमाम बाबाओं को खुली चुनौती जो व्यक्ति चमत्कारी शक्तियों का दावा करते हैं, केवल पाखंडी या दिमागी तौर पर पागल व्यक्ति हैं।"सत्य कहते हो सलीम साहब,बस इतना और जोड़ूंगा " जिसे विज्ञान के नियमों से समझाया न जा सके तथा उन्ही परिस्थितियों में दोहराया न जा सके ऐसा कोई कारनामा या चमत्कार पूरे मानव इतिहास में न कोई कर पाया है और न कोई कभी कर सकेगा "और हाँ, बात जब निकली है तो बता ही दूं कि आज जो बाबा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से मिले सरकार बनवाने के वास्ते… हवा में से जो भभूत, गहने, मूर्तियां, फूल, घड़ी आदि आदि जो वे पैदा करते हैं/थे… वह सब टुच्ची हाथ की सफाई है और कुछ नहीं…

  18. प्रवीण शाह कहते हैं:

    >…"तान्त्रिकों, ज्योतिषियों और चमत्कार का दावा करने वाले विश्व के तमाम बाबाओं को खुली चुनौती जो व्यक्ति चमत्कारी शक्तियों का दावा करते हैं, केवल पाखंडी या दिमागी तौर पर पागल व्यक्ति हैं।"सत्य कहते हो सलीम साहब,बस इतना और जोड़ूंगा " जिसे विज्ञान के नियमों से समझाया न जा सके तथा उन्ही परिस्थितियों में दोहराया न जा सके ऐसा कोई कारनामा या चमत्कार पूरे मानव इतिहास में न कोई कर पाया है और न कोई कभी कर सकेगा "और हाँ, बात जब निकली है तो बता ही दूं कि आज जो बाबा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से मिले सरकार बनवाने के वास्ते… हवा में से जो भभूत, गहने, मूर्तियां, फूल, घड़ी आदि आदि जो वे पैदा करते हैं/थे… वह सब टुच्ची हाथ की सफाई है और कुछ नहीं…

  19. Anonymous कहते हैं:

    >sahi kaha pravin shah tum bhi haath ki safai se paida huwe lagte ho.जिसे विज्ञान के नियमों से समझाया न जा सके तथा उन्ही परिस्थितियों में दोहराया न जा सके ऐसा कोई कारनामा या चमत्कार पूरे मानव इतिहास में न कोई कर पाया है और न कोई कभी कर सकेगा kyoki pravin shah ko paida karne ke liye jo koshishe ki gai thi unhe dobara karne par pravin shah hi paida hoga, aisa sambhav nahi hai. science bhi nahi kar sakta.to huwe na tum haath ki safai ka kamaal.

  20. Anonymous कहते हैं:

    >sahi kaha pravin shah tum bhi haath ki safai se paida huwe lagte ho.जिसे विज्ञान के नियमों से समझाया न जा सके तथा उन्ही परिस्थितियों में दोहराया न जा सके ऐसा कोई कारनामा या चमत्कार पूरे मानव इतिहास में न कोई कर पाया है और न कोई कभी कर सकेगा kyoki pravin shah ko paida karne ke liye jo koshishe ki gai thi unhe dobara karne par pravin shah hi paida hoga, aisa sambhav nahi hai. science bhi nahi kar sakta.to huwe na tum haath ki safai ka kamaal.

  21. प्रवीण शाह कहते हैं:

    >…करेक्शन प्लीज, ऊपर वाला बेनामी सचमुच एक चमत्कार है… 🙂

  22. प्रवीण शाह कहते हैं:

    >…करेक्शन प्लीज, ऊपर वाला बेनामी सचमुच एक चमत्कार है… 🙂

  23. K. D. Kash कहते हैं:

    >@ salim khan पहले अल्लाह है यह सबित करो आदमी हार कोई चीज़ अपने पान्च सेन्स से अनुभव कर सकता है इसी तरहसे अल्लाह को सबित करो सूरज गोल घुमता है इसका मतलब अल्लाह है ऐसा नाही होता वह पान्च सेन्स होते है आंख( देखना), नाक (सुन्घना ), कान (सूनना ), जाबन (स्वाद से जानाना) त्वचा (स्पर्शसे जानाना )इन सेन्स का उपयोग कारके अल्लाह को प्रूव करो

  24. K.K._________________ कहते हैं:

    >@ salim khan पहले अल्लाह है यह सबित करो आदमी हार कोई चीज़ अपने पान्च सेन्स से अनुभव कर सकता है इसी तरहसे अल्लाह को सबित करो सूरज गोल घुमता है इसका मतलब अल्लाह है ऐसा नाही होता वह पान्च सेन्स होते है आंख( देखना), नाक (सुन्घना ), कान (सूनना ), जाबन (स्वाद से जानाना) त्वचा (स्पर्शसे जानाना )इन सेन्स का उपयोग कारके अल्लाह को प्रूव करो

  25. >अल्बेर टी कोवूर की इस चेतना को जितने लोग आगे बढ़ाएं अच्छा है, लेकिन यदि आप इसका लिंक भी लगाते तो ज्यादा अच्छा रहता।

  26. rohit कहते हैं:

    >there is a wonderfull word in hindi and urdu' chutiya' which correctly describe people like salim. he doesnt possess any knowledge except some copy paste tools. i feel pity at him. i asked him a question but never recieved any answer for that. gain i m asking the same question to him mulahija farmayiye. if u say allah is very powerfull then why he cant borne muslim by bearth .why do they undergo khatana to become muslim. it means allah cant borne peoples its only hindu gods hoe give birth to human thats why they come with full skin.

  27. rohit कहते हैं:

    >there is a wonderfull word in hindi and urdu' chutiya' which correctly describe people like salim. he doesnt possess any knowledge except some copy paste tools. i feel pity at him. i asked him a question but never recieved any answer for that. gain i m asking the same question to him mulahija farmayiye. if u say allah is very powerfull then why he cant borne muslim by bearth .why do they undergo khatana to become muslim. it means allah cant borne peoples its only hindu gods hoe give birth to human thats why they come with full skin.

  28. उम्दा सोच कहते हैं:

    >@ ab inconvenienti – बहुत बढ़िया…सिजोफ्रेनिक-पीडोफाइल मनोरोगी का और उसके चिलांडूवो का कॉपीराईट है चमत्कार पर !!!1- जो किसी सीलबंद करेंसी नोट की ठीक नकल पैदा कर सकता हो।2- जो किसी सीलबंद करेंसी नोट का नंबर पढ सकता हो।3- जो जलती आग में अपने देवता की सहायता से आधे मिनट के लिए नंगे पैर खडा हो सकता हो।4- ऐसी वस्तु जो मैं मांगूं, हवा में से प्रस्तुत कर दे।5- टेलीपैथी द्वारा किसी दूसरे व्यक्ति के विचार पढ कर बता सकता हो।6- मनोवैज्ञानिक शक्ति से किसी वस्तु को हिला या मोड सकता हो।7- प्रार्थना द्वारा, आत्मिक शक्ति द्वारा गंगा जल द्वारा या पवित्र राख से अपने शरीर को एक इंच बढा सकता हो।8- जो योग शक्ति द्वारा हवा में उड सके। (स्वामी जी ध्यान दें)9- यौगिक शक्ति से पांच मिनट के लिए अपनी नब्ज रोक सके।10- पानी पर पैदल चल सके।11- अपना शरीर एक स्थान पर छोड कर दूसरी जगह हाजिर हो।12- यौगिक शक्ति द्वारा 30 मिनट के लिए श्वास क्रिया रोक सके।13- रचनात्मक बुद्धि का विकास करे। भक्ति या अज्ञात शक्ति द्वारा अत्मज्ञान प्राप्त करे।14- पुनर्जन्म के तौर पर कोई अनोखी भाषा बोल सके।15- ऐसी आत्मा या प्रेत हाजिर करे, जिसकी फोटो खींची जा सकती हो।16- फोटो खींचने के बाद वह फोटो से अलोप हो सके।17- ताला लगे कमरे में से अलौकिक शक्ति द्वारा बाहर निकल सके।18- किसी बस्तु का भार बढा सके।19- छिपी हुई वस्तु को खोज सके।20- पानी को शराब या पेट्रोल में बदल सके।21- शराब को रक्त में बदल सके।22- ऐसे ज्योतिषी या पण्डे, जो यह कह कर लोगों को गुमराह करते हैं कि ज्योतिष तथा हस्त रेखा वैज्ञानिक हैं, मेरे इनाम को जीत सकते हैं। यदि वे दस चित्रों या दस पत्रियों को देख कर आदमियों तथा औरतों की (समय आने पर) अलग अलग संख्या, जीवित तथा मरे की अलग अलग संख्या बता सकें या जन्म का ठीक समय और स्थान अक्षांस और देशान्तर रेखाओं सहित बता सकें। इसमें 5 प्रतिशत की गल्तियों की छूट होगी।मुहम्मद को बुला कर पूछो उसके बस का है ये सब बोलोगे उसके बाये हाथ का खेल है,इसपर तुम्हारा लॉजिक फाख्ता हो जाएगा ??? वैसे ये मदारी का खेल कोई बाबा नहीं सब मौलविय के करम है जो झाड़ फूक का फर्जीफिकेसन कर रोटी खाते है !बहुत अल्ला अल्ला कर के हल्ला कर लिया अगर सच में उसकी कोई हस्ती है तो भेजो उसे आज और बोलो के सारे चमत्कार कर दिखाए !!!अब मेरा चैलेन्ज है के अगर ऐसा हुआ तो मै आज ही इस्लाम कुबूल लूंगा और अगर नहीं हुआ तो तुम सब को सनातन धर्म अपनाना होगा !!!बोलो मंज़ूर है तुम्हे ???

  29. उम्दा सोच कहते हैं:

    >@ ab inconvenienti – बहुत बढ़िया…सिजोफ्रेनिक-पीडोफाइल मनोरोगी का और उसके चिलांडूवो का कॉपीराईट है चमत्कार पर !!!1- जो किसी सीलबंद करेंसी नोट की ठीक नकल पैदा कर सकता हो।2- जो किसी सीलबंद करेंसी नोट का नंबर पढ सकता हो।3- जो जलती आग में अपने देवता की सहायता से आधे मिनट के लिए नंगे पैर खडा हो सकता हो।4- ऐसी वस्तु जो मैं मांगूं, हवा में से प्रस्तुत कर दे।5- टेलीपैथी द्वारा किसी दूसरे व्यक्ति के विचार पढ कर बता सकता हो।6- मनोवैज्ञानिक शक्ति से किसी वस्तु को हिला या मोड सकता हो।7- प्रार्थना द्वारा, आत्मिक शक्ति द्वारा गंगा जल द्वारा या पवित्र राख से अपने शरीर को एक इंच बढा सकता हो।8- जो योग शक्ति द्वारा हवा में उड सके। (स्वामी जी ध्यान दें)9- यौगिक शक्ति से पांच मिनट के लिए अपनी नब्ज रोक सके।10- पानी पर पैदल चल सके।11- अपना शरीर एक स्थान पर छोड कर दूसरी जगह हाजिर हो।12- यौगिक शक्ति द्वारा 30 मिनट के लिए श्वास क्रिया रोक सके।13- रचनात्मक बुद्धि का विकास करे। भक्ति या अज्ञात शक्ति द्वारा अत्मज्ञान प्राप्त करे।14- पुनर्जन्म के तौर पर कोई अनोखी भाषा बोल सके।15- ऐसी आत्मा या प्रेत हाजिर करे, जिसकी फोटो खींची जा सकती हो।16- फोटो खींचने के बाद वह फोटो से अलोप हो सके।17- ताला लगे कमरे में से अलौकिक शक्ति द्वारा बाहर निकल सके।18- किसी बस्तु का भार बढा सके।19- छिपी हुई वस्तु को खोज सके।20- पानी को शराब या पेट्रोल में बदल सके।21- शराब को रक्त में बदल सके।22- ऐसे ज्योतिषी या पण्डे, जो यह कह कर लोगों को गुमराह करते हैं कि ज्योतिष तथा हस्त रेखा वैज्ञानिक हैं, मेरे इनाम को जीत सकते हैं। यदि वे दस चित्रों या दस पत्रियों को देख कर आदमियों तथा औरतों की (समय आने पर) अलग अलग संख्या, जीवित तथा मरे की अलग अलग संख्या बता सकें या जन्म का ठीक समय और स्थान अक्षांस और देशान्तर रेखाओं सहित बता सकें। इसमें 5 प्रतिशत की गल्तियों की छूट होगी।मुहम्मद को बुला कर पूछो उसके बस का है ये सब बोलोगे उसके बाये हाथ का खेल है,इसपर तुम्हारा लॉजिक फाख्ता हो जाएगा ??? वैसे ये मदारी का खेल कोई बाबा नहीं सब मौलविय के करम है जो झाड़ फूक का फर्जीफिकेसन कर रोटी खाते है !बहुत अल्ला अल्ला कर के हल्ला कर लिया अगर सच में उसकी कोई हस्ती है तो भेजो उसे आज और बोलो के सारे चमत्कार कर दिखाए !!!अब मेरा चैलेन्ज है के अगर ऐसा हुआ तो मै आज ही इस्लाम कुबूल लूंगा और अगर नहीं हुआ तो तुम सब को सनातन धर्म अपनाना होगा !!!बोलो मंज़ूर है तुम्हे ???

  30. उम्दा सोच कहते हैं:

    >अगर तुम मानते हो इस्लाम इस देश में बड़ी कॉम है तो मुसलमानों से कहो खुद को अल्पसंख्यक कहना बंद करे !!मुसलमान पहले तो इस्लाम के नाम पर अलग देश मांग चुके है अब सारे मांग नाजायज़ है ,जिसे सब इस्लाम के मुताबिक चाहिए वो जाए पाकिस्तान जा के बस जाए ,वहा सब सरियत के मुताबिक मिलेगा !!!या फिर एक काम करो …शरियत के मुताबिक चार शादी का हक़ चाहिए तुम्हे , और वन्दे मातरम भी तुम्हे गवारा नहीं तो सज़ा वाले मामले में क्यों शरियत की मांग नहीं करते हो क्यों नहीं कहते हो जो मुसलमान चोरी करते पकडा जाए उसके दोनों हाथ कलाई से काट दो ??? ,साउदी वाला कानून मांगो अपने लिए अगर तुम दोगले नहीं हो तो ??? नसबंदी तुम्हे मंज़ूर नहीं अल्लाह ने कहा है "तागैयल खल्द उलाह " यानी अल्लाह की बनावट से छेड़ छाड़ नहीं करनी चाहिए,तो बवासीर और हार्निया का ओपरेशन,बाईपास सर्जरी और सिजेरियन डेलेवेरी क्यों करवाते हो ?यानि फ़ायदा जहा होगा तुम्हारा वहा सिर्फ बाप को बाप बोलोगे ,जहा नुकसान होता दिखे तुंरत पडोसी का हाथ थाम कर पापा पापा बोल के झूलने लगोगे !ज़ाकिर फर्जी है! इस विडियो में देखो सूअर खाने वालो के डिजाइन के कपडे पहने है और तो और देखो पैंट भी एड्हियो तक लम्बी है मै शुरू से कह रहा हूँ के वो ईमान का मुकम्मल है ही नहीं आज अंग्रेजी कपडे पहने दिख रहा है ज़रूर गोस्त भी अंग्रेजो वाले खाता होगा,छुप कर ज़रूर हरकत भी वही करता होगा

  31. उम्दा सोच कहते हैं:

    >अगर तुम मानते हो इस्लाम इस देश में बड़ी कॉम है तो मुसलमानों से कहो खुद को अल्पसंख्यक कहना बंद करे !!मुसलमान पहले तो इस्लाम के नाम पर अलग देश मांग चुके है अब सारे मांग नाजायज़ है ,जिसे सब इस्लाम के मुताबिक चाहिए वो जाए पाकिस्तान जा के बस जाए ,वहा सब सरियत के मुताबिक मिलेगा !!!या फिर एक काम करो …शरियत के मुताबिक चार शादी का हक़ चाहिए तुम्हे , और वन्दे मातरम भी तुम्हे गवारा नहीं तो सज़ा वाले मामले में क्यों शरियत की मांग नहीं करते हो क्यों नहीं कहते हो जो मुसलमान चोरी करते पकडा जाए उसके दोनों हाथ कलाई से काट दो ??? ,साउदी वाला कानून मांगो अपने लिए अगर तुम दोगले नहीं हो तो ??? नसबंदी तुम्हे मंज़ूर नहीं अल्लाह ने कहा है "तागैयल खल्द उलाह " यानी अल्लाह की बनावट से छेड़ छाड़ नहीं करनी चाहिए,तो बवासीर और हार्निया का ओपरेशन,बाईपास सर्जरी और सिजेरियन डेलेवेरी क्यों करवाते हो ?यानि फ़ायदा जहा होगा तुम्हारा वहा सिर्फ बाप को बाप बोलोगे ,जहा नुकसान होता दिखे तुंरत पडोसी का हाथ थाम कर पापा पापा बोल के झूलने लगोगे !ज़ाकिर फर्जी है! इस विडियो में देखो सूअर खाने वालो के डिजाइन के कपडे पहने है और तो और देखो पैंट भी एड्हियो तक लम्बी है मै शुरू से कह रहा हूँ के वो ईमान का मुकम्मल है ही नहीं आज अंग्रेजी कपडे पहने दिख रहा है ज़रूर गोस्त भी अंग्रेजो वाले खाता होगा,छुप कर ज़रूर हरकत भी वही करता होगा

  32. Angel कहते हैं:

    >isme se kuchh baate to mumkin hai jo jadugar karte hai aapki shakl mere bade bhai se bahut milti hai jo ki kufr aur shirk jadu aur jinnn ki madad se mere upar property ke lalch mai bahut saare hathkande aajma chuka hai aur inme se kai baato ko mene apne upar aur aankho ke saamne hote dekha hai lekin jadugar ye kaam khulkar kisi ke saamne nahi karte kyoki shaitaani kaam sabke saamne karte hue darte hai.

  33. Angel कहते हैं:

    >isme se kuchh baate to mumkin hai jo jadugar karte hai aapki shakl mere bade bhai se bahut milti hai jo ki kufr aur shirk jadu aur jinnn ki madad se mere upar property ke lalch mai bahut saare hathkande aajma chuka hai aur inme se kai baato ko mene apne upar aur aankho ke saamne hote dekha hai lekin jadugar ye kaam khulkar kisi ke saamne nahi karte kyoki shaitaani kaam sabke saamne karte hue darte hai.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: