स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>"धर्मग्रंथों में पात्रों की कामुकता की पराकाष्‍ठा" Sexuality in Hindu Scriptures

>

धर्मग्रंथों में जिन पात्रों को आदर्श बताया गया है उन में कामुकता की पराकाष्‍ठा देखी जा सकती है। जहां भी सुंदर स्त्री दिखाई दी, उसे प्राप्त करने और भोगने के तानेबाने बुने जाने लगे

ब्रह्मा के संबंध मे शिवपुराण में उल्लेख आता है कि पार्वती के विवाह में ब्रह्मा पुरोहित बने थे। उन्होंने पार्वती का पांव देखा और इस कदर कामातुर हो उठे कि कर्मकांड करातेकराते ही स्खलित हो गए। भागवत में उल्लेख आता है कि शिव की रक्षा के लिए विष्‍णु ने मोहिनी रूप धारण किया तो शिव उसी रूप पर मुग्ध हो गए और उस के पीछे दीवाने होकर भागे। भविष्‍यपुराण में आई एक कथा के अनुसार अत्रि ऋशि की पत्नी अनुपम सुंदरी थी। ब्रह्मा , विष्‍णु, महेश तीनों उस के पास गए। ब्रह्मा ने निर्लज्ज हो कर अनुसूया से रतिसुख मांगा और तीनों देवता अश्‍लील हरकतें करने लगेगौतम के वेश में इंद्र द्वारा अहल्या से व्यभिचार की कथा रामायण और ब्रहा वैवर्त पुराण में आती है। अनैतिकता की पराकाष्‍ठा देखिए कि इस का दंड बेचारी निर्दोष अहल्या को भोगना पड़ा था।भागवत (9।14) और देवी भागवत में चंद्रमा द्वारा गुरू की पत्नी को अपने पास रखने की कथा आती है गुरू ने अपनी पत्नी बार-बार वापस मांगी तो भी चन्द्रमा ने उसे वापस नहीं लौटाया। लंबे अरसे तक साथ रहने के कारण चंद्रमा से तारा को एक पुत्र भी हुआ जो चन्द्रमा को ही दे दिया गया

देवताओं के गुरू बृहस्पति ने स्वयं अपने भाई की गर्भवती पत्नी से बलात्कार किया देवताओं ने ममता ( बृहस्पति की भावज ) को उस समय काफी बुराभला कहा जब उसने बृहस्पति की मनमानी का प्रतिरोध करना चाहा।इन प्रसंगों के सही गलत होने का विवेचन करने की आवशयकता नहीं है। इन का उल्लेख इसी दृष्टि से किया जा रहा है धर्म ग्रन्थों में उल्लेखित पात्रों को किनं मानदडों पर आदर्श सिद्ध किया गया है । उन का समय दूसरों की पत्नी छीनने व व्यभिचार करने में बीतता था तो वे लोगों को नैतिकता का पाठ कब सिखाते थे और कैसे सिखाते थेइंद्र का तो सारा समय ही स्त्रियों के साथ राग रंग में बीतता था वह जब असुरों से हार जाते तो ब्रह्मा, विष्‍णु, महेश की सहायता से षड्यंत्र रच कर अपना राज्य वापस प्राप्त करते और फिर उन्ही रागरंगों में रम जाते। अप्सराओं के नाच देखना, शराब पीना, और दूसरा कोई व्यक्ति अच्छे काम करता तो उस में विध्न पैदा करना यही इंद्र की जीवनचर्या थी । इस की पुष्ठि करने वाले ढेरों प्रसंग धर्मषास्त्रों में भरे पडे़ हैं

महाभारत के तो हर अघ्याय में झूठ, बेईमानी और धूर्तता की ढेरों कहानियां हैं। धर्मराज युधिष्ठिर, जिन के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने जीवन में कभी पाप नही किया, जुआ खेल कर राजपाट हार गए और पत्नी को भी दाव पर लगा बैठे, युधिष्ठिर के इस कृत्य की द्रौपदी और धृतराष्‍ट के ही एक पुत्र विकर्ण ने भर्त्‍सना की थी। ‘‘महाभारत’’ की लड़ाई के लिए कोई एक घटना मूल कारण है तो वह युधिष्ठिर का जुआ खेलना और द्रौपदी को दांव पर लगाना हैइतने बड़े युद्व का कारण धार्मिक भले ही हो, पर नैतिक कहां रह जाता है?

दूसरे धर्मावतार भीष्‍म ने एक राजकुमारी अंबा का अपहरण किया तथा न खुद उससे विवाह किया और न ही दूसरी जगह होने दिया । अंबा को इस संताप के कारण आत्महत्या करनी पड़ीकुंती के चारों पुत्र कर्ण, युघिष्ठिर , भीम और अर्जुन परपुरूषों से उत्पन्न हुए थे कर्ण तो विवाह से पहले ही जन्म ले चुका थास्वयंवर में द्रौपदी ने अर्जुन के गले में वरमाला डाली थी। किन्तु पांचों भाइयों ने उसके साथ संयुक्त विवाह का निश्‍चय किया। पांचाल नरेश ने इसका विरोध किया तो युधिष्ठिर ने ही जिद की और अपनी बात मनवाई

संपूर्ण धर्म वाड्।मय इस तरह की विसंगतियों से भरा हुआ है इसे कथित धार्मिक युग का प्रतिबिंब भी कह सकते हैं और धर्म का आदर्श भी कह सकते हैं । जिनमें नैतिक गुणों का कोई महत्व नहीं है ।इन प्रसंगों से यही सिद्व होता है कि अनैतिकता को तब धर्मगुरूओं की स्वीकृति मिली हुई थी। दानदक्षिणा, पूजापाठ, कर्मकांड, यज्ञ, हवन आदि धार्मिक क्रियाकृत्य करते हुए कैसा भी आचरण किया जाता तो वह सभ्य था । जरूरी इतना भर था कि ब्राह्मणों के स्वार्थ पुरे किये जाते रहें।

नैतिक कौन?
असुर देवताओं और धार्मिक लोगों की तुलना में अधिक नैतिक थे
। वे देवताओं से युद्ध जरूर लड़ते थे, लेकिन युद्ध में उन्होंने बेईमानी प्रायः नहीं की । देवताओं की स्त्रियों को भी उन्होंने परेशान नहीं किया अपमान का बदला लेने के लिए रावण सीता का हरण कर के ले तो गया था, पर उस ने सीता को लंका में बड़े ही आदर से रखा थाराम ने शूर्पनखा के प्रणय निवेदन को ठुकराया, वहाँ तक तो ठीक है, लेकिन उसे लक्ष्मण के पास प्रणय प्रस्ताव ले कर जाने और बाद में नाककान काट लेने का भद्दा मजाक और दुव्र्यवहार करने का क्या औचित्य था? रावण यदि इसी स्तर पर प्रतिशोध लेना चाहता तो सीता की शील रक्षा असंभव थी । इस स्थिति में कौन ज्यादा नैतिक था – राम या रावण ?
स्रोत : मोहमद उमर कैरानवी

Advertisements

Filed under: राम या रावण

40 Responses

  1. अनुनाद सिंह कहते हैं:

    >हिन्दुओं के ग्रन्थ इतने पुराने हैं कि कोई सही-सही बता ही नहीं सकता कि कौन ग्रन्थ कब लिखा गया। कोई पाँच हजार वर्ष से अधिक पुराना है कोई दो हजार वर्ष पुराना। ऐसी स्थिति में उसके बारे में कुछ भी ठीक-ठीक नहीं कहा जा सकता कि इसमें से क्या मूलरूप में है, क्या बाद में जुड़ा है; क्या सत्य है? क्या अर्धसत्य और क्या केवल कल्पना की उड़ान? इसलिये उस पर बहस करना कोई अर्थ नही रखता।लेकिन मोहम्मद तो सातवीं शताब्दी में हुए थे – इसमें किसी को कोई शक नहीं है। उन्होने पहला (?) संभोग एक बुढ़िया से किया और अन्तिम एक सात साल की अबोध कन्या से – जो उनके नजदीकी रिस्तेदार की बेटी थी। इसमें दोनो ही अनैतिक और आला दर्जे के घृणित काम हैं।

  2. अनुनाद सिंह कहते हैं:

    >हिन्दुओं के ग्रन्थ इतने पुराने हैं कि कोई सही-सही बता ही नहीं सकता कि कौन ग्रन्थ कब लिखा गया। कोई पाँच हजार वर्ष से अधिक पुराना है कोई दो हजार वर्ष पुराना। ऐसी स्थिति में उसके बारे में कुछ भी ठीक-ठीक नहीं कहा जा सकता कि इसमें से क्या मूलरूप में है, क्या बाद में जुड़ा है; क्या सत्य है? क्या अर्धसत्य और क्या केवल कल्पना की उड़ान? इसलिये उस पर बहस करना कोई अर्थ नही रखता।लेकिन मोहम्मद तो सातवीं शताब्दी में हुए थे – इसमें किसी को कोई शक नहीं है। उन्होने पहला (?) संभोग एक बुढ़िया से किया और अन्तिम एक सात साल की अबोध कन्या से – जो उनके नजदीकी रिस्तेदार की बेटी थी। इसमें दोनो ही अनैतिक और आला दर्जे के घृणित काम हैं।

  3. saras कहते हैं:

    >- SIMI khan aakhir aa gaya apni aukat par…- sirf dudh ka sambandh dekhnewale behancho… logo se naitikta ka paath nahi sikhna hume…- aur go-mutra ke sambandh me kal ek baat kehna bhul gaya…- bhed-bakri, gaay-bhains aur na jaane kin-kin janwaro ke wo ang, jinme mal-mutra aur dusre gande padarth jama hote hain, bhi kha jaanewale SIMI khan ab duniya ko shuchita ka paath padha rahe hain….- beta, tum musalmano ke baare me prachalit anek kisso ke pukhta saboot ke taur par saamne aaye ho…

  4. saras कहते हैं:

    >- SIMI khan aakhir aa gaya apni aukat par…- sirf dudh ka sambandh dekhnewale behancho… logo se naitikta ka paath nahi sikhna hume…- aur go-mutra ke sambandh me kal ek baat kehna bhul gaya…- bhed-bakri, gaay-bhains aur na jaane kin-kin janwaro ke wo ang, jinme mal-mutra aur dusre gande padarth jama hote hain, bhi kha jaanewale SIMI khan ab duniya ko shuchita ka paath padha rahe hain….- beta, tum musalmano ke baare me prachalit anek kisso ke pukhta saboot ke taur par saamne aaye ho…

  5. Arvind Mishra कहते हैं:

    >लेकिन स्वच्छता के लम्बरदार इसे नहीं कह सकेगें -जलजला आयेगा ! यौनासक्ति तो सहज ही है -विश्वामित्र सरीखा ऋषि मेनका पर रीझ गया ! एक हिन्दू को यह सब मानने में कतई कोई दिक्कत नहीं है मगर बुढिया और सात साल की बच्ची ही मिली मुहम्मद को -उफ़ कितना घृणित !

  6. Arvind Mishra कहते हैं:

    >लेकिन स्वच्छता के लम्बरदार इसे नहीं कह सकेगें -जलजला आयेगा ! यौनासक्ति तो सहज ही है -विश्वामित्र सरीखा ऋषि मेनका पर रीझ गया ! एक हिन्दू को यह सब मानने में कतई कोई दिक्कत नहीं है मगर बुढिया और सात साल की बच्ची ही मिली मुहम्मद को -उफ़ कितना घृणित !

  7. ab inconvenienti कहते हैं:

    >पचपन साल के बूढे मुहम्मद साहब(सल्ल०) ने अपने मित्र अबू बकर की छः साल की बेटी आयशा से निकाह किया था. तीन साल बाद जब बच्ची आयशा नौ साल की थी तब मुहम्मद साहब(सल्ल०) ने उसके साथ 'निकाह मुकम्मल' किया. मुहम्मद साहब(सल्ल०) ने पच्चीस की उम्र में अपना पहला विवाह चालीस साला प्रौढ़ यहूदी महिला 'खदीजा बिन्त खुवैलिद' से किया था. कुल मिला कर मुहम्मद साहब (सल्ल०) ने कुल ग्यारह शादियाँ की. हिन्दुओं के तो ज्यादातर पात्र पौराणिक या फंतासी हैं, यहाँ मनुष्य-देव-असुर सब माया के कांसेप्ट से चलते हैं. पर मुहम्मद तो सचमुच हुए हैं न? इतने निकाह उन्होंने केवल बुर्के की मोडलिंग के लिए तो नहीं किये होंगे बच्ची से लेकर बूढी तक हर उम्र की खातूनें हरम में….. व्हाट अ टेस्ट सरजी

  8. ab inconvenienti कहते हैं:

    >पचपन साल के बूढे मुहम्मद साहब(सल्ल०) ने अपने मित्र अबू बकर की छः साल की बेटी आयशा से निकाह किया था. तीन साल बाद जब बच्ची आयशा नौ साल की थी तब मुहम्मद साहब(सल्ल०) ने उसके साथ 'निकाह मुकम्मल' किया. मुहम्मद साहब(सल्ल०) ने पच्चीस की उम्र में अपना पहला विवाह चालीस साला प्रौढ़ यहूदी महिला 'खदीजा बिन्त खुवैलिद' से किया था. कुल मिला कर मुहम्मद साहब (सल्ल०) ने कुल ग्यारह शादियाँ की. हिन्दुओं के तो ज्यादातर पात्र पौराणिक या फंतासी हैं, यहाँ मनुष्य-देव-असुर सब माया के कांसेप्ट से चलते हैं. पर मुहम्मद तो सचमुच हुए हैं न? इतने निकाह उन्होंने केवल बुर्के की मोडलिंग के लिए तो नहीं किये होंगे बच्ची से लेकर बूढी तक हर उम्र की खातूनें हरम में….. व्हाट अ टेस्ट सरजी

  9. ab inconvenienti कहते हैं:

    >ऋषि देवता और खासकर इन्द्र कम से कम अपने दोस्तों या नजदीकी रिश्तेदारों की छः साल की बच्चियों पर बुरी नज़र नहीं डालते थे.और हाँ जो वेद-वेद चिल्लते फिरते हो न उनमे पुराणों से भी ज्यादा सेक्स है, कभी पढ़कर देखो. प्राचीन हिन्दू समाज काफी खुला हुआ था. और औरतों को मर्दों से ज्यादा आज़ादी थी, यहाँ तक की वे विवाह के बाद भी खुद यह फैसला करने का हक़ रखती थीं की वे संतान किस पुरुष से प्राप्त करें. और हिन्दुओं के प्राचीन मंदिर नहीं देखे क्या? सभी में कामसूत्र के आसनों पर आधारित मूर्तियाँ मिल जाएँगी. हमें गर्व है की केवल हमारी प्राचीन संस्कृति ने ही सेक्स के बारे में खुला नजरिया रखा, हमने सेक्स को उस तरीके से देखा जैसा की प्रकृति ने उसे बनाया है. ऐसे कुछ प्रसंग वेदों से भी पेश करो.

  10. ab inconvenienti कहते हैं:

    >ऋषि देवता और खासकर इन्द्र कम से कम अपने दोस्तों या नजदीकी रिश्तेदारों की छः साल की बच्चियों पर बुरी नज़र नहीं डालते थे.और हाँ जो वेद-वेद चिल्लते फिरते हो न उनमे पुराणों से भी ज्यादा सेक्स है, कभी पढ़कर देखो. प्राचीन हिन्दू समाज काफी खुला हुआ था. और औरतों को मर्दों से ज्यादा आज़ादी थी, यहाँ तक की वे विवाह के बाद भी खुद यह फैसला करने का हक़ रखती थीं की वे संतान किस पुरुष से प्राप्त करें. और हिन्दुओं के प्राचीन मंदिर नहीं देखे क्या? सभी में कामसूत्र के आसनों पर आधारित मूर्तियाँ मिल जाएँगी. हमें गर्व है की केवल हमारी प्राचीन संस्कृति ने ही सेक्स के बारे में खुला नजरिया रखा, हमने सेक्स को उस तरीके से देखा जैसा की प्रकृति ने उसे बनाया है. ऐसे कुछ प्रसंग वेदों से भी पेश करो.

  11. Pryas कहते हैं:

    >ओ हीरो क्यों लोगों को भडका रहा है बे… अपने भाईयों की करतूत पढ ले पहले…सोमालिया के कट्टरपंथी इस्लामी ग्रुप अल-शबाब ने एक महिला को ब्रा पहनने के लिए सरेआम कोड़े लगाए गए। उत्तरी मोगादिशू के एक निवासी ने शुक्रवार को बताया कि महिला के ब्रा पहनकर इस्लाम का उल्लंघन करने पर उसे कोड़े मारे गए। स्थानीय निवासी ने कहा, अगर किसी महिला ने ब्रा पहना हो तो बंदूकधारी उसे घेर लेते हैं और एक नकाबपोश व्यक्ति उस महिला को सरेआम कोड़े मारता है। इसके बाद महिला से ब्रा उतारकर छाती हिलाने के लिए कहा जाता है। स्थानीय निवासी हलीमा ने बताया, 'अल-शबाब हमें उनके अनुसार कपड़े पहनने के लिए मजबूर करता है और अब हमसे कहा गया है कि हम अपनी छाती हिलाकर दिखाएं।' हलीमा ने बताया कि उनकी बेटी को ब्रा पहनने के लिए कोड़े मारे गए थे।

  12. Pryas कहते हैं:

    >ओ हीरो क्यों लोगों को भडका रहा है बे… अपने भाईयों की करतूत पढ ले पहले…सोमालिया के कट्टरपंथी इस्लामी ग्रुप अल-शबाब ने एक महिला को ब्रा पहनने के लिए सरेआम कोड़े लगाए गए। उत्तरी मोगादिशू के एक निवासी ने शुक्रवार को बताया कि महिला के ब्रा पहनकर इस्लाम का उल्लंघन करने पर उसे कोड़े मारे गए। स्थानीय निवासी ने कहा, अगर किसी महिला ने ब्रा पहना हो तो बंदूकधारी उसे घेर लेते हैं और एक नकाबपोश व्यक्ति उस महिला को सरेआम कोड़े मारता है। इसके बाद महिला से ब्रा उतारकर छाती हिलाने के लिए कहा जाता है। स्थानीय निवासी हलीमा ने बताया, 'अल-शबाब हमें उनके अनुसार कपड़े पहनने के लिए मजबूर करता है और अब हमसे कहा गया है कि हम अपनी छाती हिलाकर दिखाएं।' हलीमा ने बताया कि उनकी बेटी को ब्रा पहनने के लिए कोड़े मारे गए थे।

  13. Mohammed Umar Kairanvi कहते हैं:

    >waah bhai ham to aapke andaz pe nayochhawar hen,,,,,yeh baten net men nayi nahin,,,,par pesh karne ka andaz naya he..Muhammed s. ne pehla nikah widhwa se kiya, unki imaandari dekh kar rishta kiya gaya,,,,ayesha ko unki maan ne unke liye khass khuraak khilakar shaadi layaq kiya tha. itni badin thin ke hazoor ne unhen nikah se pehle ped ki aad se dekha tha… donon ne misaali zindagi guzariis ab ko batao muhammad s. ne 12 shadiyan ki 11 widhwa ya doosron se chhuti huyin se ki thin,, antim awtar 12 patniyon wala hoga. aisa usne nahin padha hoga dekheantimawtar.blogspot.com

  14. Mohammed Umar Kairanvi कहते हैं:

    >waah bhai ham to aapke andaz pe nayochhawar hen,,,,,yeh baten net men nayi nahin,,,,par pesh karne ka andaz naya he..Muhammed s. ne pehla nikah widhwa se kiya, unki imaandari dekh kar rishta kiya gaya,,,,ayesha ko unki maan ne unke liye khass khuraak khilakar shaadi layaq kiya tha. itni badin thin ke hazoor ne unhen nikah se pehle ped ki aad se dekha tha… donon ne misaali zindagi guzariis ab ko batao muhammad s. ne 12 shadiyan ki 11 widhwa ya doosron se chhuti huyin se ki thin,, antim awtar 12 patniyon wala hoga. aisa usne nahin padha hoga dekheantimawtar.blogspot.com

  15. अनुनाद सिंह कहते हैं:

    >मोहम्मद ने पहली शादी जिससे की वह उम्र में और पदेन उनकी माँ के समान थी। अन्तिम शादी जिससे की वह मोहम्मद की बेटी से कम नहीं थी। माँ और बेटी के साथ सम्भोग! 'मादरXXX' और 'बेटीXXX" की गालियाँ कहीं इनके लिये ही तो नहीं थीं?

  16. अनुनाद सिंह कहते हैं:

    >मोहम्मद ने पहली शादी जिससे की वह उम्र में और पदेन उनकी माँ के समान थी। अन्तिम शादी जिससे की वह मोहम्मद की बेटी से कम नहीं थी। माँ और बेटी के साथ सम्भोग! 'मादरXXX' और 'बेटीXXX" की गालियाँ कहीं इनके लिये ही तो नहीं थीं?

  17. Suresh Chiplunkar कहते हैं:

    >अनुनाद भाई ने एकदम सही जवाब दिया है… इन लोगों से खुद की गन्दगी तो छिपाये नहीं छिप रही, लेकिन दूसरे के घर मे झांकने की आदत नहीं जाती… 🙂

  18. Suresh Chiplunkar कहते हैं:

    >अनुनाद भाई ने एकदम सही जवाब दिया है… इन लोगों से खुद की गन्दगी तो छिपाये नहीं छिप रही, लेकिन दूसरे के घर मे झांकने की आदत नहीं जाती… 🙂

  19. रंजन कहते हैं:

    >कुतर्क.. पता नहीं इस आलेख से किसे क्या मिलेगा.. किंतु एक बात तो तय है.. आप कुछ लोगो को.. (मुझ सहित) इस्लाम से दुर ले जायेगें.. क्या आप ये चाहते है?

  20. रंजन कहते हैं:

    >कुतर्क.. पता नहीं इस आलेख से किसे क्या मिलेगा.. किंतु एक बात तो तय है.. आप कुछ लोगो को.. (मुझ सहित) इस्लाम से दुर ले जायेगें.. क्या आप ये चाहते है?

  21. ab inconvenienti कहते हैं:

    >मान लो तुम किसी छः साल की लड़की पर फ़िदा हो जाते हो, उसके घरवालों को राजी कर लेते हो (अपनी फूं फां हैसियत और पावर दिखा कर). अब छः साल की लड़की शादी लायक तो है नहीं तो उसकी अम्मा तुमसे तीन साल का वक्त मांगती है. उसे ख़ास खुराक खिला कर तीन सालों में सेक्स के लायक बना देती है, और तुम पचपन की उम्र में बचपन की लड़की से "निकाह मुकम्मल' कर लेते हो. और मैं तुम्हारी शिकायत पुलिस में कर देता हूँ. तुम पीडोफिलिया / बलात्कार के आरोप में दस साल के लिए अन्दर हो जाते हो. पर वह मध्य युग था, जब एक पागल मनोरोगी (पीडोफाइल) बड़ा सरदार बन बैठा. ————————————-आज कोई दावा करे की उसे अल्लाह की आवाज़ सुनाई देती है, उसे जिन्नात दिखते हैं, उसे हूरें दिखती हैं, वह पहाड़ पर चढ़ जाता है तो उसका अल्लाह से डाइरेक्ट कनेक्शन हो जाता है, वह खुद को अल्लाह का पैगम्बर बताता है………… साथ ही उसकी एक बीवी स्कूल जाती बच्ची है.ऐसा व्यक्ति आज के समय में तुंरत पागलखाने भिजवा दिया जाएगा. विश्वास नहीं आता तो तुम खुद सड़क पर सबके सामने ऐसे दावे कर के देख लो.

  22. ab inconvenienti कहते हैं:

    >मान लो तुम किसी छः साल की लड़की पर फ़िदा हो जाते हो, उसके घरवालों को राजी कर लेते हो (अपनी फूं फां हैसियत और पावर दिखा कर). अब छः साल की लड़की शादी लायक तो है नहीं तो उसकी अम्मा तुमसे तीन साल का वक्त मांगती है. उसे ख़ास खुराक खिला कर तीन सालों में सेक्स के लायक बना देती है, और तुम पचपन की उम्र में बचपन की लड़की से "निकाह मुकम्मल' कर लेते हो. और मैं तुम्हारी शिकायत पुलिस में कर देता हूँ. तुम पीडोफिलिया / बलात्कार के आरोप में दस साल के लिए अन्दर हो जाते हो. पर वह मध्य युग था, जब एक पागल मनोरोगी (पीडोफाइल) बड़ा सरदार बन बैठा. ————————————-आज कोई दावा करे की उसे अल्लाह की आवाज़ सुनाई देती है, उसे जिन्नात दिखते हैं, उसे हूरें दिखती हैं, वह पहाड़ पर चढ़ जाता है तो उसका अल्लाह से डाइरेक्ट कनेक्शन हो जाता है, वह खुद को अल्लाह का पैगम्बर बताता है………… साथ ही उसकी एक बीवी स्कूल जाती बच्ची है.ऐसा व्यक्ति आज के समय में तुंरत पागलखाने भिजवा दिया जाएगा. विश्वास नहीं आता तो तुम खुद सड़क पर सबके सामने ऐसे दावे कर के देख लो.

  23. blogvakil कहते हैं:

    >हे राम सलीम बेरोजगार को रोजगार दिलवा दो खाली दिमाग शेतान का घर होता हैं

  24. blogvakil कहते हैं:

    >हे राम सलीम बेरोजगार को रोजगार दिलवा दो खाली दिमाग शेतान का घर होता हैं

  25. laxman singh कहते हैं:

    >मान लो तुम किसी छः साल की लड़की पर फ़िदा हो जाते हो, उसके घरवालों को राजी कर लेते हो (अपनी फूं फां हैसियत और पावर दिखा कर). अब छः साल की लड़की शादी लायक तो है नहीं तो उसकी अम्मा तुमसे तीन साल का वक्त मांगती है. उसे ख़ास खुराक खिला कर तीन सालों में सेक्स के लायक बना देती है, और तुम पचपन की उम्र में बचपन की लड़की से "निकाह मुकम्मल' कर लेते हो.और मैं तुम्हारी शिकायत पुलिस में कर देता हूँ. तुम पीडोफिलिया / बलात्कार के आरोप में दस साल के लिए अन्दर हो जाते हो.पर वह मध्य युग था, जब एक पागल मनोरोगी (पीडोफाइल) बड़ा सरदार बन बैठा.————————————-आज कोई दावा करे की उसे अल्लाह की आवाज़ सुनाई देती है, उसे जिन्नात दिखते हैं, उसे हूरें दिखती हैं, वह पहाड़ पर चढ़ जाता है तो उसका अल्लाह से डाइरेक्ट कनेक्शन हो जाता है, वह खुद को अल्लाह का पैगम्बर बताता है………… साथ ही उसकी एक बीवी स्कूल जाती बच्ची है.ऐसा व्यक्ति आज के समय में तुंरत पागलखाने भिजवा दिया जाएगा. विश्वास नहीं आता तो तुम खुद सड़क पर सबके सामने ऐसे दावे कर के देख लो.@ ab inconvenientiभाई मान गया आपको क्या खतरनाक जवाब दिया है आप ने@ सलीम मिया ये कर के दिखा ओ तो माने

  26. laxman singh कहते हैं:

    >मान लो तुम किसी छः साल की लड़की पर फ़िदा हो जाते हो, उसके घरवालों को राजी कर लेते हो (अपनी फूं फां हैसियत और पावर दिखा कर). अब छः साल की लड़की शादी लायक तो है नहीं तो उसकी अम्मा तुमसे तीन साल का वक्त मांगती है. उसे ख़ास खुराक खिला कर तीन सालों में सेक्स के लायक बना देती है, और तुम पचपन की उम्र में बचपन की लड़की से "निकाह मुकम्मल' कर लेते हो.और मैं तुम्हारी शिकायत पुलिस में कर देता हूँ. तुम पीडोफिलिया / बलात्कार के आरोप में दस साल के लिए अन्दर हो जाते हो.पर वह मध्य युग था, जब एक पागल मनोरोगी (पीडोफाइल) बड़ा सरदार बन बैठा.————————————-आज कोई दावा करे की उसे अल्लाह की आवाज़ सुनाई देती है, उसे जिन्नात दिखते हैं, उसे हूरें दिखती हैं, वह पहाड़ पर चढ़ जाता है तो उसका अल्लाह से डाइरेक्ट कनेक्शन हो जाता है, वह खुद को अल्लाह का पैगम्बर बताता है………… साथ ही उसकी एक बीवी स्कूल जाती बच्ची है.ऐसा व्यक्ति आज के समय में तुंरत पागलखाने भिजवा दिया जाएगा. विश्वास नहीं आता तो तुम खुद सड़क पर सबके सामने ऐसे दावे कर के देख लो.@ ab inconvenientiभाई मान गया आपको क्या खतरनाक जवाब दिया है आप ने@ सलीम मिया ये कर के दिखा ओ तो माने

  27. Amit K Sagar कहते हैं:

    >गहरा चिंतन-मनन है. —अंतिम पढ़ाव पर- हिंदी ब्लोग्स में पहली बार Friends With Benefits – रिश्तों की एक नई तान (FWB) [बहस] [उल्टा तीर]

  28. Amit K Sagar कहते हैं:

    >गहरा चिंतन-मनन है. —अंतिम पढ़ाव पर- हिंदी ब्लोग्स में पहली बार Friends With Benefits – रिश्तों की एक नई तान (FWB) [बहस] [उल्टा तीर]

  29. >वेदों और पुराणों और अन्य धर्मों की किताबों में लिखा है कि ईश्वर के अंतिम संदेष्ठा की बारह पत्नियाँ होंगी. और यह भविष्यवाणी हज़रत मोहम्मद (स.) के ऊपर पूरी तरह से सही उतरती है और जो यह सवाल उठा रहें है कि उन्होंने 12 शादियाँ की उन्हें अपने ही ग्रन्थों का गहन रूप से अध्ययन करना होगा क्यूंकि उन्ही पुस्तकों में यह भविष्यवाणी है.रहा सवाल 12 शादियों का तो उन्होंने (स.) १२ में से ११ शादियाँ विधवाओं या तलाकशुदा औरतों से ही शादी की थी. मात्र एक शादी हज़रत आयशा (रज़ि.) से की जो कि कुंवारी थीं.

  30. >वेदों और पुराणों और अन्य धर्मों की किताबों में लिखा है कि ईश्वर के अंतिम संदेष्ठा की बारह पत्नियाँ होंगी. और यह भविष्यवाणी हज़रत मोहम्मद (स.) के ऊपर पूरी तरह से सही उतरती है और जो यह सवाल उठा रहें है कि उन्होंने 12 शादियाँ की उन्हें अपने ही ग्रन्थों का गहन रूप से अध्ययन करना होगा क्यूंकि उन्ही पुस्तकों में यह भविष्यवाणी है.रहा सवाल 12 शादियों का तो उन्होंने (स.) १२ में से ११ शादियाँ विधवाओं या तलाकशुदा औरतों से ही शादी की थी. मात्र एक शादी हज़रत आयशा (रज़ि.) से की जो कि कुंवारी थीं.

  31. सलीम ख़ान कहते हैं:

    >वेदों और पुराणों और अन्य धर्मों की किताबों में लिखा है कि ईश्वर के अंतिम संदेष्ठा की बारह पत्नियाँ होंगी. और यह भविष्यवाणी हज़रत मोहम्मद (स.) के ऊपर पूरी तरह से सही उतरती है और जो यह सवाल उठा रहें है कि उन्होंने 12 शादियाँ की उन्हें अपने ही ग्रन्थों का गहन रूप से अध्ययन करना होगा क्यूंकि उन्ही पुस्तकों में यह भविष्यवाणी है.रहा सवाल 12 शादियों का तो उन्होंने (स.) १२ में से ११ शादियाँ विधवाओं या तलाकशुदा औरतों से ही शादी की थी. मात्र एक शादी हज़रत आयशा (रज़ि.) से की जो कि कुंवारी थीं.

  32. सलीम ख़ान कहते हैं:

    >वेदों और पुराणों और अन्य धर्मों की किताबों में लिखा है कि ईश्वर के अंतिम संदेष्ठा की बारह पत्नियाँ होंगी. और यह भविष्यवाणी हज़रत मोहम्मद (स.) के ऊपर पूरी तरह से सही उतरती है और जो यह सवाल उठा रहें है कि उन्होंने 12 शादियाँ की उन्हें अपने ही ग्रन्थों का गहन रूप से अध्ययन करना होगा क्यूंकि उन्ही पुस्तकों में यह भविष्यवाणी है.रहा सवाल 12 शादियों का तो उन्होंने (स.) १२ में से ११ शादियाँ विधवाओं या तलाकशुदा औरतों से ही शादी की थी. मात्र एक शादी हज़रत आयशा (रज़ि.) से की जो कि कुंवारी थीं.

  33. ab inconvenienti कहते हैं:

    >हाँ कुँवारी केवल छः साल की लड़कियां होती हैं न. सोलह साल या उससे बड़ी भी कई कुँवारी लड़कियां मिल सकती थी सरदार तुम्हे, पर तुम बच्चों के साथ व्यभिचार की कामुक कल्पना करते रहते थे सो चैन कैसे पड़ता? और वह व्यक्ति जिसने एक नौ साल की दोस्त की बच्ची के साथ अट्ठावन की उम्र में सेक्स (बलात्कार) किया, उसे तुम पैगम्बर मानते हो, महिलाओं का उद्धार करनेवाला बताते हो. ऐसे बाल-बलात्कारी का नाम वेदों से और अवतारों से जोड़ने पर मैं सख्त आपत्ति करता हूँ. कहते हैं हर मुसलमान को पैगम्बर की जीवनशैली का अनुकरण करना चाहिए, तो क्या हर मुसलमान मर्द अपने दोस्त-रिश्तेदारों की बच्चियों से शादी की चाह रखे? क्या बुढापे में भी नौ साल की बच्ची से सेक्स करने की सोचे? और हाँ, कोई पीडोफाइल कल्कि अवतार कभी नहीं हो सकता.

  34. ab inconvenienti कहते हैं:

    >हाँ कुँवारी केवल छः साल की लड़कियां होती हैं न. सोलह साल या उससे बड़ी भी कई कुँवारी लड़कियां मिल सकती थी सरदार तुम्हे, पर तुम बच्चों के साथ व्यभिचार की कामुक कल्पना करते रहते थे सो चैन कैसे पड़ता? और वह व्यक्ति जिसने एक नौ साल की दोस्त की बच्ची के साथ अट्ठावन की उम्र में सेक्स (बलात्कार) किया, उसे तुम पैगम्बर मानते हो, महिलाओं का उद्धार करनेवाला बताते हो. ऐसे बाल-बलात्कारी का नाम वेदों से और अवतारों से जोड़ने पर मैं सख्त आपत्ति करता हूँ. कहते हैं हर मुसलमान को पैगम्बर की जीवनशैली का अनुकरण करना चाहिए, तो क्या हर मुसलमान मर्द अपने दोस्त-रिश्तेदारों की बच्चियों से शादी की चाह रखे? क्या बुढापे में भी नौ साल की बच्ची से सेक्स करने की सोचे? और हाँ, कोई पीडोफाइल कल्कि अवतार कभी नहीं हो सकता.

  35. उम्दा सोच कहते हैं:

    >पीडोफिलियाग्रस्त के अनुयाई सुनो – पुराण मतलब होता है पुराना इसका मान्यता से कोई मतलब नहीं है कहानिया है सामान्य मनुष्यों को समझाने के लिए जिनका मतलब तुम पूरा देखो तो समझ आएगा!सनातन धर्म को समझना चाहते हो तो पहले नियत साफ़ करो फिर सोचो ! ये कोई कुरान सा नहीं है जो जाहिलो को भी समझ आये !तुम्हारी फोटो देखी तुम्हारे ब्लॉग पर मुँह से मुसलमान तो कत्तई नहीं लग रहे हो पक्का लख्नौउआ सिटियाबाज़ लगते हो ६ साल की भतीजी तलाशते, भाभी ३ साल खुराक खिला तैयार करवा दे या मौसी मिले !सुनो जाओ पहले मुट्ठी भर दाढी रखाव घुटने तक का पैजामा पहनो,दिनभर ब्लॉग पर खुराफात करते हो नमाज़ अदा तो कर नहीं पाते होगे , बहाने से गीता रामायण पढ़ते रहते हो सो अलग ,हुलिया टामी सा बना रक्खा है उसकी तरह छुप के सूअर का मॉस भी खा लेते होगे ? और आ कर झूट सच बोलते हो!…..जाओ पहले मुसलमान बनो …

  36. उम्दा सोच कहते हैं:

    >पीडोफिलियाग्रस्त के अनुयाई सुनो – पुराण मतलब होता है पुराना इसका मान्यता से कोई मतलब नहीं है कहानिया है सामान्य मनुष्यों को समझाने के लिए जिनका मतलब तुम पूरा देखो तो समझ आएगा!सनातन धर्म को समझना चाहते हो तो पहले नियत साफ़ करो फिर सोचो ! ये कोई कुरान सा नहीं है जो जाहिलो को भी समझ आये !तुम्हारी फोटो देखी तुम्हारे ब्लॉग पर मुँह से मुसलमान तो कत्तई नहीं लग रहे हो पक्का लख्नौउआ सिटियाबाज़ लगते हो ६ साल की भतीजी तलाशते, भाभी ३ साल खुराक खिला तैयार करवा दे या मौसी मिले !सुनो जाओ पहले मुट्ठी भर दाढी रखाव घुटने तक का पैजामा पहनो,दिनभर ब्लॉग पर खुराफात करते हो नमाज़ अदा तो कर नहीं पाते होगे , बहाने से गीता रामायण पढ़ते रहते हो सो अलग ,हुलिया टामी सा बना रक्खा है उसकी तरह छुप के सूअर का मॉस भी खा लेते होगे ? और आ कर झूट सच बोलते हो!…..जाओ पहले मुसलमान बनो …

  37. शंकर फुलारा कहते हैं:

    >bhayi salim khan ji agar asli khan ho to umda soch ki tippni ke baad ya to muh chhpa loge ya beshrm(hijdon) ki tarah apne blog par taliyan bajate rahoge

  38. शंकर फुलारा कहते हैं:

    >bhayi salim khan ji agar asli khan ho to umda soch ki tippni ke baad ya to muh chhpa loge ya beshrm(hijdon) ki tarah apne blog par taliyan bajate rahoge

  39. Anonymous कहते हैं:

    >saleem Muhmmad ne Islaam ka bando ko Jaanat Bhja shyad Khud bhi Janat hi gaya hoga huro ka dance dhakne ka liya or jannat me huro ka saath ayassi karna chata ho baki dhram ke duniya ka log papi hai kya Jo jahunum ma jange. shyad sabhi musalmaan aur muhmmad khud jannat ma hurro ka saat sex karta honga abhi bhi. yahi hai teri aur mohamaad ki soach. mohmmad ko sex ka alawa aur kuch sujata bhi tha jo usna sex ko hi manav jeevan ka aim bana diya hai

  40. Anonymous कहते हैं:

    >saleem Muhmmad ne Islaam ka bando ko Jaanat Bhja shyad Khud bhi Janat hi gaya hoga huro ka dance dhakne ka liya or jannat me huro ka saath ayassi karna chata ho baki dhram ke duniya ka log papi hai kya Jo jahunum ma jange. shyad sabhi musalmaan aur muhmmad khud jannat ma hurro ka saat sex karta honga abhi bhi. yahi hai teri aur mohamaad ki soach. mohmmad ko sex ka alawa aur kuch sujata bhi tha jo usna sex ko hi manav jeevan ka aim bana diya hai

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: