स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>जिन्हें नाज़ है ‘हिन्द’ पर वो कहाँ हैं….Sahir Ludhiyanwi

>

ये कूचे, ये नीलाम घर दिलकशी के
ये लुटते हुए कारवां ज़िंदगी के
कहाँ हैं, कहाँ हैं मुहाफ़िज़ खुदी के
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं
कहाँ हैं, कहाँ हैं, कहाँ हैं….

ये पुरपेंच गलियां, ये बदनाम बाज़ार
ये गुमनाम राही, ये सिक्कों की झनकार
ये इस्मत के सौदे, ये सौदों पे तकरार
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं
कहाँ हैं, कहाँ हैं, कहाँ हैं….

ये सदियों से बेखौफ़ सहमी सी गलियां
ये मसली हुई अधखिली ज़र्द कलियां
ये बिकती हुई खोखली रंगरलियाँ
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं
कहाँ हैं, कहाँ हैं, कहाँ हैं….

वो उजले दरीचों में पायल की छन छन
थकी हारी सांसों पे तबले की धन धन
ये बेरूह कमरों मे खांसी कि ठन ठन
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं
कहाँ हैं, कहाँ हैं, कहाँ हैं….

ये फूलों के गजरे, ये पीकों के छींटे
ये बेबाक नज़रे, ये गुस्ताख फ़िक़रे

ये ढलके बदन और ये बीमार चेहरे
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं
कहाँ हैं, कहाँ हैं, कहाँ हैं….

यहाँ पीर भी आ चुके हैं, जवां भी
तनओमन्द बेटे भी, अब्बा मियाँ भी
ये बीवी है और बहन है, माँ है
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं
कहाँ हैं, कहाँ हैं, कहाँ हैं….

मदद चाहती है ये हवा की बेटी
यशोदा की हम्जिन्स राधा की बेटी
पयम्बर की उम्मत, ज़ुलेखा की बेटी,
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं
कहाँ हैं, कहाँ हैं, कहाँ हैं….


ज़रा इस मुल्क के रहबरों को बुलाओ
ये
कूचे ये गलियां ये मंज़र दिखाओ
जिन्हें
नाज़ है हिन्द पर उनको लाओ
जिन्हें
नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं
कहाँ
हैं, कहाँ हैं, कहाँ हैं….

Filed under: जिन्हें नाज़ है हिन्द पर

8 Responses

  1. >पुराने गीतों में जो दम था वो आजकल की चिल्लमपों में कहाँ?

  2. >पुराने गीतों में जो दम था वो आजकल की चिल्लमपों में कहाँ?

  3. saras says:

    >yaar tumhara naam hona chahiye SIMI khan…kok tumhara agenda bhi wohi lagta hai….yaha par bomb blast ki photos nahi hai, kio?yaha par sangli ke dango ki photos nahi kio?yaha par godhra train ki photo kio nahi?yaha par kashmir me aag lagane wale kio nahi?yaha par kargil ki photo kio nahi?yaha par 26/11 kio nahi?yaha par muslimo ki darindgi kio nahi?……….?????????????mujhe bahut dukh hai ki ISHWAR ne tumhe sirf ek aankh di hai.

  4. saras says:

    >yaar tumhara naam hona chahiye SIMI khan…kok tumhara agenda bhi wohi lagta hai….yaha par bomb blast ki photos nahi hai, kio?yaha par sangli ke dango ki photos nahi kio?yaha par godhra train ki photo kio nahi?yaha par kashmir me aag lagane wale kio nahi?yaha par kargil ki photo kio nahi?yaha par 26/11 kio nahi?yaha par muslimo ki darindgi kio nahi?……….?????????????mujhe bahut dukh hai ki ISHWAR ne tumhe sirf ek aankh di hai.

  5. saras says:

    >tumhare alaama Iqbaal ne pakistan jaakar ek nazm likhi thi….SHIKWA ALLAH SE…..shayad wo tumne padhi nahi hai…padh lo….aur fir mulla'o ne unhe mazboor kiyato unhone JAWAB-E-SHIKWA bhi likha…wo bhi padh lo…akal kaafi had tak thikane aa jayegi…ek mashvira hai aapko…na dusro ki ninda karo…na kisi ko aisa karne par mazboor karo…bhagwan apko sadbuddhi de….

  6. saras says:

    >tumhare alaama Iqbaal ne pakistan jaakar ek nazm likhi thi….SHIKWA ALLAH SE…..shayad wo tumne padhi nahi hai…padh lo….aur fir mulla'o ne unhe mazboor kiyato unhone JAWAB-E-SHIKWA bhi likha…wo bhi padh lo…akal kaafi had tak thikane aa jayegi…ek mashvira hai aapko…na dusro ki ninda karo…na kisi ko aisa karne par mazboor karo…bhagwan apko sadbuddhi de….

  7. >साहिर ने बहुत शानदार लिखा था, सच एक दम खरा सच

  8. >साहिर ने बहुत शानदार लिखा था, सच एक दम खरा सच

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: