स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>क्या आप ‘ब्लोगवाणी’ का इतिहास जानते हैं? (The History of Blogvani)

>

हिंदी ब्लॉग का एग्रिगेटर” ब्लोगवाणी.
यह एक ऐसी वेबसाइट है; जिसे शायेद ही कोई ब्लॉगर रोज़ न देखता हो. हर हिंदी ब्लॉगर की दिनचर्या की शुरुआत ही ब्लोगवाणी से होती है. ब्लोगवाणी का इतिहास जानने से पहले हम ब्लोगवाणी की कुछ विशेषताओं को जान लें. जैसे ही हम यह वेबसाइट खोलते हैं हमें हिंदी ब्लॉग जगत के उन सभी ब्लोग्स के लेखों उन पर की जा रही टिप्पणियों और सबसे ज्यादा पसंद किये गए लेखों, सबसे ज्यादा पढ़े गए लेखों और सबसे ज्यादा प्राप्त टिप्पणियों के लेखों का एक खाका सामने आ जाता है. ब्लोगवाणी पर सभी हिंदी ब्लॉग का ब्यौरा हो यह ज़रूरी नहीं क्यूंकि ब्लोगवाणी पर उसी ब्लॉग की सुचना या जानकारी मिल सकेगी जो इस वेबसाइट पर रजिस्टर कर चुकें हों. और रजिस्टर किये गए ब्लॉग के लिए भी ब्लोगवाणी ने विशेष पृष्ट की व्यवस्था कर रखी है, जिस पर उस विशेष ब्लॉग के सभी लेखो का विवरण, उनपर की गयी टिपण्णी और पसंद किये गए चटके का भी ज़िक्र होता है. आप ब्लोगवाणी पर सन्दर्भ या श्रेणियों के आधार पर भी लेखों को खोज सकते हैं, इसमें कुल 25 श्रेणियां दी गयी हैं जैसे- कविता, तकनीक, धर्म-आध्यात्म आदि. ब्लोगवाणी की सुविधा में अगर कहीं भी कोई भी दिक्क़त आ रही हो तो उसकी शिकायत के लिए इस वेबसाइट पर सबसे नीचे दाहिने तरफ़ ब्लोगवाणी संपर्क की भी व्यवस्था है. शिकायत मेल करने के कुछ ही घंटों में आपका समाधान आपने दिए गए मेल एड्रेस पर पोस्ट हो जायेगा.

तो यह रही ब्लोगवाणी की मुख्तसर सी विशेषताएं.
 
ब्लोगवाणी का इतिहास:

ब्लोगवाणी वेबसाइट (http://www.blogvani.com/) को जून 2007 में पब्लिक सॉफ्टवेर लाइब्रेरी इंडिया प्रा. लि. (Public Software Library India Pvt Ltd), नई दिल्ली द्वारा लॉन्च किया गया था, जिसके मालिक है श्री मैथिली सरन गुप्ता जी है और वह वह कंपनी के सीईओ है. इसी कंपनी ने सन 2009 में एक और वेबसाइट लॉच की जिसका नाम आस्ट्रोबिक्स.कॉम है. इसमें आप वैदिक अस्ट्रोलोजी सम्बंधित उत्पादन खरीद सकते हैं.

दर असल पब्लिक सॉफ्टवेर लाइब्रेरी इंडिया प्रा. लि. (Public Software  Library India Pvt Ltd) की शुरुआत सन 1998 में की गयी थी जो फ्रीवेअर और शेयरवेअर सॉफ्टवेर की सी डी बना के बेचती थी. इसको पब्लिक सॉफ्ट इंडिया नाम से ज़्यादा जाना जाता है. श्री मैथिलि सरन गुप्ता जी इस कंपनी को बनाने से पहले एक बैंकर थे. सन १९९८ से २००१ तक इस कंपनी ने खूब तरक्की की और मार्केट में कई तरह के शेयरवेअर और कई भारतीय भाषाओँ के फॉण्ट सॉफ्टवेअर को लॉन्च किया. कंपनी की यह पॉलिसी है कि कम कीमत में लोगों को यह प्रोडक्टस मुहैय्या कराये जा सकें.

सन २००१ में इस कंपनी ने हिंदीपैड लॉच किया जो कि देवनागरी को आसानी से टाइप कर सकने में सक्षम था. भविष्यफल बताने के लिए कंपनी ने होरोस्कोप एक्स्प्लोरर लॉच किया. इस सॉफ्टवेअर के ज़रिये वैदिक आस्ट्रोलोजी रिपोर्ट को भारतीय भाषाओँ में प्राप्त जा सकता है. यही एक ऐसा प्रोडक्ट है जो सबसे ज़्यादा फेमस और बिकाऊ है. सन 2006 में लगभग 10 भारतीय भाषाओँ में वैदिक आस्ट्रोलोजी को लॉच किया जा चुका है. सन 2006 की शुरुआत में पब्लिक सॉफ्ट इंडिया ने लैंग्वेज लर्निंग क्षत्र में पदार्पण किया और कैफे इंग्लिश कि शुरुआत की. यही नहीं कंपनी ने अकाउन्टिंग सॉफ्टवेअर भी लॉच कर रखे हैं.
 पब्लिक सॉफ्टवेअर इंडिया की मुख्य वेबसाइट है आईटीबिक्स.कॉम जिसके तहत ये अपने सारे प्रोडक्ट की मार्केटिंग करते हैं.


कुछ प्रमुख सॉफ्टवेअर की सूचि:

  • होरोस्कोप एक्स्प्लोरर
  • करेक्ट अकाउन्टिंग सॉफ्टवेअर
  • कैफे इंग्लिश
  • मुहुर्त एक्स्प्लोरर (Electional Vedic Astrology)
  • प्रश्न कुंडली (Horary Vedic Astrology)
  • लाल किताब एक्स्प्लोरर
  • डेली आस्ट्रोलोजी एक्स्प्लोरर
  • टेलीफोन इंग्लिश
 तो ये थी ब्लोगवाणी और उससे सम्बंधित जानकारी. साथ ही आपने जाना कि इस कपंनी और कितने प्रोडक्ट हैं. अगर आप इस कंपनी से संपर्क करना चाहते हैं तो नीचे दिए गए पते पर संपर्क कर सकते हैं:

Public Software Library India Pvt Ltd

76/2, Ist Floor, Isckon Temple Road,

Garhi, East of Kailash New Delhi-110065, India
Ph: 91-11-26486288/89, Email: itbix@itbix.com

प्रस्तुति: सलीम खान

Filed under: Uncategorized

10 Responses

  1. >ये तो बहुत अच्छी जानकारी है। मुझे तो पता ही नहीं था कि प्रश्न कुन्दली पर भी कोइ software hai dhanyavaad

  2. >ये तो बहुत अच्छी जानकारी है। मुझे तो पता ही नहीं था कि प्रश्न कुन्दली पर भी कोइ software hai dhanyavaad

  3. >अतुलनीय, ज्ञान से परिपूर्ण जानकारि, यह भी बता देते कि इस "हिंदी ब्लॉग का एग्रिगेटर" मैं कौनसा हिन्‍दी Rank-2 Blog नहीं है, हमने सारे कुप्रचारी भगा दिये हैं, यह लोग लेख को प्रतिक्रिया शक्ति से भटका देते थे, अब अपका ब्लाग सच में स्‍वच्‍छ हो चुका है, बधाईsignature:विचार करो कि मुहम्मद सल्ल. कल्कि व अंतिम अवतार और बैद्ध मैत्रे, अंतिम ऋषि (इसाई) यहूदीयों के भी आखरी संदेष्‍टा हैं या यह big game against islam है ?antimawtar.blogspot.com (Rank-1 Blog)इस्लामिक पुस्तकों के अतिरिक्‍त छ अल्लाह के चैलेंज islaminhindi.blogspot.com (Rank-2 Blog)

  4. >अतुलनीय, ज्ञान से परिपूर्ण जानकारि, यह भी बता देते कि इस "हिंदी ब्लॉग का एग्रिगेटर" मैं कौनसा हिन्‍दी Rank-2 Blog नहीं है, हमने सारे कुप्रचारी भगा दिये हैं, यह लोग लेख को प्रतिक्रिया शक्ति से भटका देते थे, अब अपका ब्लाग सच में स्‍वच्‍छ हो चुका है, बधाईsignature:विचार करो कि मुहम्मद सल्ल. कल्कि व अंतिम अवतार और बैद्ध मैत्रे, अंतिम ऋषि (इसाई) यहूदीयों के भी आखरी संदेष्‍टा हैं या यह big game against islam है ?antimawtar.blogspot.com (Rank-1 Blog)इस्लामिक पुस्तकों के अतिरिक्‍त छ अल्लाह के चैलेंज islaminhindi.blogspot.com (Rank-2 Blog)

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: