स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>हाँ….मैं, सलीम खान हिन्दू हूँ!

>

‘हिंदू’ शब्द की परिभाषा

भारत वर्ष में रह कर अगर हम कहें की हिंदू शब्द की परिभाषा क्या हो सकती है? हिंदू शब्द के उद्भव का इतिहास क्या है? आख़िर क्या है हिंदू? तो यह एक अजीब सा सवाल होगा
लेकिन यह एक सवाल ही है कि जिस हिन्दू शब्द का इस्तेमाल वर्तमान में जिस अर्थ के लिए किया जा रहा है क्या वह सही है ?

मैंने पीस टीवी पर डॉ ज़ाकिर नाइक का एक स्पीच देखा, उन्होंने किस तरह से हिंदू शब्द की व्याख्या की मुझे कुछ कुछ समझ में आ गया मगर पुरी संतुष्टि के लिए मैंने अंतरजाल पर कई वेबसाइट पर इस शब्द को खोजा तो पाया हाँ डॉ ज़ाकिर नाइक वाकई सही कह रहे हैं. हिंदू शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई, कब हुई और किसके द्वारा हुई? इन सवालों के जवाब में ही हिंदू शब्द की परिभाषा निहित है

यह बहुत ही मजेदार बात होगी अगर आप ये जानेंगे कि हिंदू शब्द न ही द्रविडियन न ही संस्कृत भाषा का शब्द है. इस तरह से यह हिन्दी भाषा का शब्द तो बिल्कुल भी नही हुआ. मैं आप को बता दूँ यह शब्द हमारे भारतवर्ष में 17वीं शताब्दी तक इस्तेमाल में नही था. अगर हम वास्तविक रूप से हिंदू शब्द की परिभाषा करें तो कह सकते है कि भारतीय (उपमहाद्वीप) में रहने वाले सभी हिंदू है चाहे वो किसी धर्म के हों. हिंदू शब्द धर्म निरपेक्ष शब्द है यह किसी धर्म से सम्बंधित नही है बल्कि यह एक भौगोलिक शब्द है. हिंदू शब्द संस्कृत भाषा के शब्द सिन्धु का ग़लत उच्चारण का नतीजा है जो कई हज़ार साल पहले पर्सियन वालों ने इस्तेमाल किया था. उनके उच्चारण में ‘स’ अक्षर का उच्चारण ‘ह’ होता था

हाँ….मैं, सलीम खान हिन्दू हूँ !!!
हिंदू शब्द अपने आप में एक भौगोलिक पहचान लिए हुए है, यह सिन्धु नदी के पार रहने वाले लोगों के लिए इस्तेमाल किया गया था या शायेद इन्दुस नदी से घिरे स्थल पर रहने वालों के लिए इस्तेमाल किया गया था। बहुत से इतिहासविद्दों का मानना है कि ‘हिंदू’ शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम अरब्स द्वारा प्रयोग किया गया था मगर कुछ इतिहासविद्दों का यह भी मानना है कि यह पारसी थे जिन्होंने हिमालय के उत्तर पश्चिम रस्ते से भारत में आकर वहां के बाशिंदों के लिए इस्तेमाल किया था।

धर्म और ग्रन्थ के शब्दकोष के वोल्यूम # 6,सन्दर्भ # 699 के अनुसार हिंदू शब्द का प्रादुर्भाव/प्रयोग भारतीय साहित्य या ग्रन्थों में मुसलमानों के भारत आने के बाद हुआ था

भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ‘द डिस्कवरी ऑफ़ इंडिया’ में पेज नम्बर 74 और 75 पर लिखा है कि “the word Hindu can be earliest traced to a source a tantrik in 8th century and it was used initially to describe the people, it was never used to describe religion…” पंडित जवाहरलाल नेहरू के मुताबिक हिंदू शब्द तो बहुत बाद में प्रयोग में लाया गया। हिन्दुज्म शब्द कि उत्पत्ति हिंदू शब्द से हुई और यह शब्द सर्वप्रथम 19वीं सदी में अंग्रेज़ी साहित्कारों द्वारा यहाँ के बाशिंदों के धार्मिक विश्वास हेतु प्रयोग में लाया गया।

नई शब्दकोष ब्रिटानिका के अनुसार, जिसके वोल्यूम# 20 सन्दर्भ # 581 में लिखा है कि भारत के बाशिंदों के धार्मिक विश्वास हेतु (ईसाई, जो धर्म परिवर्तन करके बने को छोड़ कर) हिन्दुज्म शब्द सर्वप्रथम अंग्रेज़ी साहित्यकारों द्वारा सन् 1830 में इस्ल्तेमल किया गया था

इसी कारण भारत के कई विद्वानों और बुद्धिजीवियों का कहना है कि हिन्दुज्म शब्द के इस्तेमाल को धर्म के लिए प्रयोग करने के बजाये इसे सनातन या वैदिक धर्म कहना चाहिए. स्वामी विवेकानंद जैसे महान व्यक्ति का कहना है कि “यह वेदंटिस्ट धर्म” होना चाहिए.

इस प्रकार भारतवर्ष में रहने वाले सभी बाशिंदे हिन्दू हैं, भौगोलिक रूप से! चाहे वो मैं हूँ या कोई अन्य.

Advertisements

Filed under: Uncategorized

32 Responses

  1. mulqkiaawaaz कहते हैं:

    >सही व्याख्या प्रतुत की आपने, बधाई स्वीकार करें…

  2. mulqkiaawaaz कहते हैं:

    >सही व्याख्या प्रतुत की आपने, बधाई स्वीकार करें…

  3. dhiru singh {धीरू सिंह} कहते हैं:

    >बिलकुल सही कहा आपने .वेद,पुराण ,रामायण ,गीता में कहीं भी हिन्दू शब्द का प्रयोग नहीं हुआ है . लेकिन कितने सलीम खान अपने को हिन्दू कहेंगे .

  4. dhiru singh {धीरू सिंह} कहते हैं:

    >बिलकुल सही कहा आपने .वेद,पुराण ,रामायण ,गीता में कहीं भी हिन्दू शब्द का प्रयोग नहीं हुआ है . लेकिन कितने सलीम खान अपने को हिन्दू कहेंगे .

  5. Mohammed Umar Kairanvi कहते हैं:

    >bhai abhi yeh log khud hi hindu shabd ki ek pribhasha par nahin atak rahe. ham khud ko kese keh den hindu… kahin agar inhoone iski ek pribhasa di ho to batao. yeh abhi vichar kar rahe hen ki,jo yahan peda huye woh hindu hen ya jo bahar paida ho rahe hen woh bhi hindu hen.jo maans nahin khate woh hindu hen,,,ya jo kaali ke bhakt maans khate hen woh bhi hindu hen.neech jaat jo mandir men nahin ghus sakti woh bhi hindu he ke nahin.jain,bodh bhi hindu hen ya nahin.aise bhot se sawal jo yeh khud dhoond rahe hen…pehle inhen hindu aur hindutva ki ek pribhasa karne do phir ham sochenge ke ham bhi hindu hen ke nahin.

  6. Mohammed Umar Kairanvi कहते हैं:

    >bhai abhi yeh log khud hi hindu shabd ki ek pribhasha par nahin atak rahe. ham khud ko kese keh den hindu… kahin agar inhoone iski ek pribhasa di ho to batao. yeh abhi vichar kar rahe hen ki,jo yahan peda huye woh hindu hen ya jo bahar paida ho rahe hen woh bhi hindu hen.jo maans nahin khate woh hindu hen,,,ya jo kaali ke bhakt maans khate hen woh bhi hindu hen.neech jaat jo mandir men nahin ghus sakti woh bhi hindu he ke nahin.jain,bodh bhi hindu hen ya nahin.aise bhot se sawal jo yeh khud dhoond rahe hen…pehle inhen hindu aur hindutva ki ek pribhasa karne do phir ham sochenge ke ham bhi hindu hen ke nahin.

  7. aarya कहते हैं:

    >सलीम जीसादर वन्दे!आपने अपने पोस्ट में बहुत ही बहादुरी दिखाई है जो कम ही देखने में मिलती है, आप कि पोस्ट सच्चाई के करीब है सिवाय जवाहर लाल नेहरू कि पुस्तकके , नेहरू कि पुस्तक इतनी गलत है कि समय के साथ नई खोजों ने इसे किसी लायक नहीं छोडा है.हाँ हम सभी हिन्दू हैं, हर भारतवासी जो इस भूखंड में रहता है वह हिन्दू है.रत्नेश त्रिपाठी

  8. aarya कहते हैं:

    >सलीम जीसादर वन्दे!आपने अपने पोस्ट में बहुत ही बहादुरी दिखाई है जो कम ही देखने में मिलती है, आप कि पोस्ट सच्चाई के करीब है सिवाय जवाहर लाल नेहरू कि पुस्तकके , नेहरू कि पुस्तक इतनी गलत है कि समय के साथ नई खोजों ने इसे किसी लायक नहीं छोडा है.हाँ हम सभी हिन्दू हैं, हर भारतवासी जो इस भूखंड में रहता है वह हिन्दू है.रत्नेश त्रिपाठी

  9. Ratan Singh Shekhawat कहते हैं:

    >तो फिर आपके ब्लॉग पर ये लेबल कैसे "हिन्दू आतंकवाद " "हिन्दू साम्प्रदायिकता" आदि आदि ? यदि आप हिन्दू शब्द का सही अर्थ समझ चुके है तो इन लेबलों को हटा भी दीजिये |

  10. Ratan Singh Shekhawat कहते हैं:

    >तो फिर आपके ब्लॉग पर ये लेबल कैसे "हिन्दू आतंकवाद " "हिन्दू साम्प्रदायिकता" आदि आदि ? यदि आप हिन्दू शब्द का सही अर्थ समझ चुके है तो इन लेबलों को हटा भी दीजिये |

  11. alka sarwat कहते हैं:

    >बस अपने मुल्क में मुस्लिम हैं सर्वत अरब वाले तो हिन्दू बोलते हैं . http://sarwatindia.blogspot.comमैंने ऊपर वाला शेर इसलिए कोट किया क्योंकि इसमें आपका पूरा लेख ही समाया हुआ है हिन्दू नाम का कोई धर्म नहीं है , धर्म का नाम तो सनातन धर्म है और इस देश का नाम आर्यावर्त था ,हम सभी आर्य कहे जाते थे ,आज कल के साम्प्रदायिक दंगे फैलाने वाले यह सच्चाई जानते कहाँ हैं?लेकिन जरा मो० umar को बताएं की जिस तरह के झगडे की बात वो कर रहे हैं उसी तरह के झगडे शीया और सुन्नियों में कदम -कदम पर होते हैं

  12. alka sarwat कहते हैं:

    >बस अपने मुल्क में मुस्लिम हैं सर्वत अरब वाले तो हिन्दू बोलते हैं . http://sarwatindia.blogspot.comमैंने ऊपर वाला शेर इसलिए कोट किया क्योंकि इसमें आपका पूरा लेख ही समाया हुआ है हिन्दू नाम का कोई धर्म नहीं है , धर्म का नाम तो सनातन धर्म है और इस देश का नाम आर्यावर्त था ,हम सभी आर्य कहे जाते थे ,आज कल के साम्प्रदायिक दंगे फैलाने वाले यह सच्चाई जानते कहाँ हैं?लेकिन जरा मो० umar को बताएं की जिस तरह के झगडे की बात वो कर रहे हैं उसी तरह के झगडे शीया और सुन्नियों में कदम -कदम पर होते हैं

  13. Amit K Sagar कहते हैं:

    >बहुत ही खूब. जारी रहें.—क्या आप हैं उल्टा तीर के लेखक / लेखिका?विजिट करें; http://ultateer.blogspot.com

  14. Amit K Sagar कहते हैं:

    >बहुत ही खूब. जारी रहें.—क्या आप हैं उल्टा तीर के लेखक / लेखिका?विजिट करें; http://ultateer.blogspot.com

  15. dimple कहते हैं:

    >bahut achhi post hai apki…log swaal uthayenge..jaldi hazam nahi karenge..aisee ek bhaduri ke liye jaswant singh ko party se nikal diya gaya…sahi ko sahi kahna etna asaan nahi hai…

  16. raj कहते हैं:

    >bahut achhi post hai apki…log swaal uthayenge..jaldi hazam nahi karenge..aisee ek bhaduri ke liye jaswant singh ko party se nikal diya gaya…sahi ko sahi kahna etna asaan nahi hai…

  17. haal-ahwaal कहते हैं:

    >miya, iss lihaz se to aapko HALIM KHAN hona chahiye tha na?tum khud ko hindu keh bhi doge to kya, tumhare dharm ki pehchan kairanbi jaise logo se hi hogi…

  18. haal-ahwaal कहते हैं:

    >miya, iss lihaz se to aapko HALIM KHAN hona chahiye tha na?tum khud ko hindu keh bhi doge to kya, tumhare dharm ki pehchan kairanbi jaise logo se hi hogi…

  19. cmpershad कहते हैं:

    >सही है, हिंदुस्तान में रहने वाला हर बाशिंदा हिंदू है, आपके पूर्वज भी हिंदू ही थे। बस, अब इस देश की मिट्टी चूमो और इसे विखंडित न होने का प्रण लो।

  20. cmpershad कहते हैं:

    >सही है, हिंदुस्तान में रहने वाला हर बाशिंदा हिंदू है, आपके पूर्वज भी हिंदू ही थे। बस, अब इस देश की मिट्टी चूमो और इसे विखंडित न होने का प्रण लो।

  21. TUMHARI KHOJ ME कहते हैं:

    >सलीम जी अब समझा। आपका हार्डवेयर हिंदू और सोफ्टवेयर मुसलमान है। और इसीलिए PERSONALITY CONFLICT है।

  22. TUMHARI KHOJ ME कहते हैं:

    >सलीम जी अब समझा। आपका हार्डवेयर हिंदू और सोफ्टवेयर मुसलमान है। और इसीलिए PERSONALITY CONFLICT है।

  23. Ganesh Prasad कहते हैं:

    >एक बार हमसे (हिन्दू) प्यार करके देखो..जवाब खुद ब खुद मिल जायेगा, हम ( ह = हिन्दू + म = मुस्लिम ) दोनों है भाई – भाई तो टिका टिपण्णी क्यों है भाई.!वैसे TRP बढ़ाने के लिए ये सरे हथकंडे अछे है.! जो लोगो को पेज से बांधे रखता है.लिखना ही है तो कुछ प्रोग्रेसिव बाते लिखो जिससे कुछ नया अविष्कार हो सके जिससे lucknow के साथ पुरे भारतवर्ष (अर्यावार्थ ) का विकाश हो सके ! एक बात बताऊ इमान से reply भी देना सलीम भाई , किसी तस्बीर में या हकीकत में दो चरित्र (हिन्दू और मुस्लिम) को गले मिलते आपने देखा ही होगा.. कैसा लगता है वो दृश्य देखकर ( जरुर उत्तर देना ?? ) मुझे तो ऐसा लगता है दो भाई (हिन्दू और मुस्लिम) को गले मिलते देखकर, जैसे पूरी कायनात में इससे सुन्दर कोई तस्बीर हो ही नहीं सकती. सच करू हो खुसी की मरे दिल भर आता है और ये लिखते हुए भी उस अनुभव को महसूस कर रहा हूँ. !दोस्त, एक बार, एक कदम दोस्ती का बाधा कर तो देखो…

  24. Ganesh Prasad कहते हैं:

    >एक बार हमसे (हिन्दू) प्यार करके देखो..जवाब खुद ब खुद मिल जायेगा, हम ( ह = हिन्दू + म = मुस्लिम ) दोनों है भाई – भाई तो टिका टिपण्णी क्यों है भाई.!वैसे TRP बढ़ाने के लिए ये सरे हथकंडे अछे है.! जो लोगो को पेज से बांधे रखता है.लिखना ही है तो कुछ प्रोग्रेसिव बाते लिखो जिससे कुछ नया अविष्कार हो सके जिससे lucknow के साथ पुरे भारतवर्ष (अर्यावार्थ ) का विकाश हो सके ! एक बात बताऊ इमान से reply भी देना सलीम भाई , किसी तस्बीर में या हकीकत में दो चरित्र (हिन्दू और मुस्लिम) को गले मिलते आपने देखा ही होगा.. कैसा लगता है वो दृश्य देखकर ( जरुर उत्तर देना ?? ) मुझे तो ऐसा लगता है दो भाई (हिन्दू और मुस्लिम) को गले मिलते देखकर, जैसे पूरी कायनात में इससे सुन्दर कोई तस्बीर हो ही नहीं सकती. सच करू हो खुसी की मरे दिल भर आता है और ये लिखते हुए भी उस अनुभव को महसूस कर रहा हूँ. !दोस्त, एक बार, एक कदम दोस्ती का बाधा कर तो देखो…

  25. Ganesh Prasad कहते हैं:

    >अंतिम लाइन कुछ ऐसे पढ़े दोस्त, एक बार, एक कदम, दोस्ती की, हमारे तरफ तो बढा कर देखो ! जवाब में मुहब्बत ही मिलेगा..—————-कुछ शब्द त्रुटियों के लिए google दोस्त और अपना भी मानता हूँ ! इसके लिए क्षमा करे.शिक्षक दिवस की बधाई !

  26. Ganesh Prasad कहते हैं:

    >अंतिम लाइन कुछ ऐसे पढ़े दोस्त, एक बार, एक कदम, दोस्ती की, हमारे तरफ तो बढा कर देखो ! जवाब में मुहब्बत ही मिलेगा..—————-कुछ शब्द त्रुटियों के लिए google दोस्त और अपना भी मानता हूँ ! इसके लिए क्षमा करे.शिक्षक दिवस की बधाई !

  27. सतीश सक्सेना कहते हैं:

    >पहली बार आपको पढ़ा ,शुभकामनायें !

  28. सतीश सक्सेना कहते हैं:

    >पहली बार आपको पढ़ा ,शुभकामनायें !

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: