स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>मुझे मेरी बीवी से बचाओ! (Fight Against misuse of Dowry Law- IPC-498a)

>धारा 498a और घरेलू हिंसा और उत्पीडन के दुरुपयोग के खिलाफ़ स्वच्छ सन्देश का एक प्रयास


आपकी पत्नी द्वारा पास के पुलिस स्टेशन पर 498a दहेज़ एक्ट या घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत एक लिखित झूठी शिकायत करती है तो आप, आपके बुढे माँ- बाप और रिश्तेदार फ़ौरन ही बिना किसी विवेचना के गिरफ्तार कर लिए जायेंगे और गैर-जमानती टर्म्स में जेल में डाल दिए जायेंगे भले चाहे की गई शिकायत फर्जी और झूठी ही क्यूँ न हो! आप शायेद उस गलती की सज़ा पा जायेंगे जो आपने की ही नही और आप अपने आपको निर्दोष भी साबित नही कर पाएँगे और अगर आपने अपने आपको निर्दोष साबित कर भी लिया तब तक शायेद आप आप न रह सके बल्कि समाज में एक जेल याफ्ता मुजरिम कहलायेंगे और आप का परिवार समाज की नज़र में क्या होगा इसका अंदाजा आप लगा सकते है.

498a दहेज़ एक्ट या घरेलू हिंसा अधिनियम को केवल आपकी पत्नी या उसके सम्बन्धियों के द्वारा ही निष्प्रभावी किया जा सकता है आपकी पत्नी की शिकायत पर आपका पुरा परिवार जेल जा सकता है चाहे वो आपके बुढे माँ- बाप हों, अविवाहित बहन, भाभी (गर्भवती क्यूँ न हों) या 3 साल का छोटा बच्चा शिकायत को वापस नही लिया जा सकता और शिकायत दर्ज होने के बाद आपका जेल जाना तय है ज्यादातर केसेज़ में यह कम्पलेंट झूठी ही साबित होती है और इस को निष्प्रभावी करने के लिए स्वयं आपकी पत्नी ही आपने पूर्व बयान से मुकर कर आपको जेल से मुक्त कराती है आपका परिवार एक अनदेखे तूफ़ान से घिर जाएगा साथ ही साथ आप भारत के इस सड़े हुए भ्रष्ट तंत्र के दलदल में इस कदर फसेंगे की हो सकता आपका या आपके परिवार के किसी फ़र्द का मानसिक संतुलन ही न बिगड़ जाए यह कानून आपकी पत्नी द्वारा आपको ब्लेकमेल करने का सबसे खतरनाक हथियार है इसलिए आपको शादी करने से पूर्व और शादी के बाद ऐसी भयानक परिस्थिति का सामना न करना पड़े इसके लिए कुछ एहतियात की ज़रूरत होगी जो कि इस वेबसाइट पर मौजूद है आप उसे पढ़े और सतर्क रहे.

Filed under: इस्लाम और नारी के अधिकार, नारी

6 Responses

  1. >अरे! ये क्या! इस्लाम कहाँ गया?अब समझा तुम भी बीबी के सताए हुए हो इसीलिये इतनी कम उम्र में तुममें धर्म के प्रति प्रेम जाग्रत हो गया!:)

  2. >अरे! ये क्या! इस्लाम कहाँ गया?अब समझा तुम भी बीबी के सताए हुए हो इसीलिये इतनी कम उम्र में तुममें धर्म के प्रति प्रेम जाग्रत हो गया!:)

  3. >शायद निशांतजी सही ही कह रहे हैं। काफ़ी दिनों बाद मैं भी इधर आया तो आश्चर्य हुआ…

  4. >शायद निशांतजी सही ही कह रहे हैं। काफ़ी दिनों बाद मैं भी इधर आया तो आश्चर्य हुआ…

  5. >भाई पूछा तो शायद मैंने कभी नहीं, अनुमान है कि शादीशुदा नहीं हो, खेर में बता दूं मेरे दो लडके और एक लडकी है, धर्म कार्य का उमर अर्थात आयु से किया लेना देना, हिन्दी ब्लागिंग में बुजुर्ग तो आने से रहे, वेसे भी हम दो चार ही बहुत हैं इनका ध्‍र्म ज्ञान ही कितना होता है जो ओर आयें, यह तो धार्मिक ग्रंथों के नाम तक सही नहीं जानते चले हैं खान से टकराने,भाई टाप से खबरों की खबर नीचे ले आओ, आपकी वेबसाइट का screenshot लेख के साथ नहीं आता और भी इसके नुक्सान हैं, ऐसी खबरें अखबारों के लिये रहने दो, दूसरी बात कुरआन pdf का यह लिंक लगा लो http://www.scribd.com/doc/14249240/-

  6. >भाई पूछा तो शायद मैंने कभी नहीं, अनुमान है कि शादीशुदा नहीं हो, खेर में बता दूं मेरे दो लडके और एक लडकी है, धर्म कार्य का उमर अर्थात आयु से किया लेना देना, हिन्दी ब्लागिंग में बुजुर्ग तो आने से रहे, वेसे भी हम दो चार ही बहुत हैं इनका ध्‍र्म ज्ञान ही कितना होता है जो ओर आयें, यह तो धार्मिक ग्रंथों के नाम तक सही नहीं जानते चले हैं खान से टकराने,भाई टाप से खबरों की खबर नीचे ले आओ, आपकी वेबसाइट का screenshot लेख के साथ नहीं आता और भी इसके नुक्सान हैं, ऐसी खबरें अखबारों के लिये रहने दो, दूसरी बात कुरआन pdf का यह लिंक लगा लो http://www.scribd.com/doc/14249240/-

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: