स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>हाँ….मैं, सलीम खान हिन्दू हूँ !!! (Yes… I am Hindu !!!)

>

‘हिंदू’ शब्द की परिभाषा

भारत वर्ष में रह कर अगर हम कहें की हिंदू शब्द की परिभाषा क्या हो सकती है? हिंदू शब्द के उद्भव का इतिहास क्या है? आख़िर क्या है हिंदू? तो यह एक अजीब सा सवाल होगा | लेकिन यह भी एक सवाल ही है कि जिस हिन्दू शब्द का इस्तेमाल वर्तमान में जिस अर्थ के लिए किया जा रहा है क्या वह सही है ?

मैंने हाल ही में पीस टीवी पर डॉ ज़ाकिर नाइक का एक स्पीच देखा, उन्होंने जिस तरह से हिंदू शब्द की व्याख्या की मुझे कुछ कुछ समझ में आ गया, मगर पुरी संतुष्टि के लिए मैंने अंतरजाल पर कई वेबसाइट पर इस शब्द को खोजा तो पाया हाँ डॉ ज़ाकिर नाइक वाकई सही कह रहे हैं. हिंदू शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई, कब हुई और किसके द्वारा हुई? इन सवालों के जवाब में ही हिंदू शब्द की परिभाषा निहित है|

यह बहुत ही मजेदार बात होगी जब आप ये जानेंगे कि ‘हिंदू शब्द’ न ही द्रविडियन न ही संस्कृत भाषा का शब्द है. इस तरह से यह हिन्दी भाषा का शब्द तो बिल्कुल भी नही हुआ. मैं आप को बता दूँ यह शब्द हमारे भारतवर्ष में 17वीं शताब्दी तक इस्तेमाल में नही था. अगर हम वास्तविक रूप से हिंदू शब्द की परिभाषा करें तो कह सकते है कि भारतीय (उपमहाद्वीप) में रहने वाले सभी हिंदू है चाहे वो किसी धर्म के हों. हिंदू शब्द धर्म निरपेक्ष शब्द है यह किसी धर्म से सम्बंधित नही है बल्कि यह एक भौगोलिक शब्द है. ‘हिंदू शब्द’ संस्कृत भाषा के शब्द ‘सिन्धु’ का ग़लत उच्चारण का नतीजा है जो कई हज़ार साल पहले पर्सियन वालों ने इस्तेमाल किया था. उनके उच्चारण में ‘स’ अक्षर का उच्चारण ‘ह’ होता था|

हाँ….मैं, सलीम खान हिन्दू हूँ !!!
हिंदू शब्द अपने आप में एक भौगोलिक पहचान लिए हुए है, यह सिन्धु नदी के पार रहने वाले लोगों के लिए इस्तेमाल किया गया था या शायेद इन्दुस नदी से घिरे स्थल पर रहने वालों के लिए इस्तेमाल किया गया था। बहुत से इतिहासविद्दों का मानना है कि ‘हिंदू’ शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम अरब्स द्वारा प्रयोग किया गया था मगर कुछ इतिहासविद्दों का यह भी मानना है कि यह पारसी थे जिन्होंने हिमालय के उत्तर पश्चिम रास्ते से भारत में आकर वहां के बाशिंदों के लिए इस्तेमाल किया था।

धर्म और ग्रन्थ के शब्दकोष के वोल्यूम # 6,सन्दर्भ # 699 के अनुसार हिंदू शब्द का प्रादुर्भाव/प्रयोग भारतीय साहित्य या ग्रन्थों में मुसलमानों के भारत आने के बाद हुआ था|

भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ‘द डिस्कवरी ऑफ़ इंडिया’ में पेज नम्बर 74 और 75 पर लिखा है कि “the word Hindu can be earliest traced to a source a tantrik in 8th century and it was used initially to describe the people, it was never used to describe religion…” पंडित जवाहरलाल नेहरू के मुताबिक हिंदू शब्द तो बहुत बाद में प्रयोग में लाया गया। हिन्दुज्म शब्द कि उत्पत्ति हिंदू शब्द से हुई और यह शब्द सर्वप्रथम 19वीं सदी में अंग्रेज़ी साहित्कारों द्वारा यहाँ के बाशिंदों के धार्मिक विश्वास हेतु प्रयोग में लाया गया।

नई शब्दकोष ब्रिटानिका के अनुसार, जिसके वोल्यूम# 20 सन्दर्भ # 581 में लिखा है कि भारत के बाशिंदों के धार्मिक विश्वास हेतु (ईसाई, जो धर्म परिवर्तन करके बने को छोड़ कर) हिन्दुज्म शब्द सर्वप्रथम अंग्रेज़ी साहित्यकारों द्वारा सन् 1830 में इस्तेमाल किया गया था|

इसी कारण भारत के कई विद्वानों और बुद्धिजीवियों का कहना है कि ‘हिन्दु शब्द’ के इस्तेमाल को धर्म के लिए प्रयोग करने के बजाये इसे सनातन या वैदिक धर्म कहना चाहिए. स्वामी विवेकानंद जैसे महान व्यक्ति का कहना है कि “यह वेदंटिस्ट धर्म” होना चाहिए| इस प्रकार भारतवर्ष में रहने वाले सभी बाशिंदे हिन्दू हैं, भौगोलिक रूप से! चाहे वो मैं हूँ या कोई अन्य |

लेखक: सलीम खान

Filed under: Uncategorized

14 Responses

  1. >भारतीय (उपमहाद्वीप) में रहने वाले सभी हिंदू है चाहे वो किसी धर्म के हों. हिंदू शब्द धर्म निरपेक्ष शब्द है यह किसी धर्म से सम्बंधित नही है बल्कि यह एक भौगोलिक शब्द है. एकदम सही कहा आपने, काश यह बात देश के हरेक इन्सान, हरेक नेता (वे इन्सान जो नहीं होते) के समझ में आ जाती तो आज हमारी यह दुर्दशा नहीं होती।बहुत बढ़िया पोस्ट लिखी आपने, बधाई।

  2. >भारतीय (उपमहाद्वीप) में रहने वाले सभी हिंदू है चाहे वो किसी धर्म के हों. हिंदू शब्द धर्म निरपेक्ष शब्द है यह किसी धर्म से सम्बंधित नही है बल्कि यह एक भौगोलिक शब्द है. एकदम सही कहा आपने, काश यह बात देश के हरेक इन्सान, हरेक नेता (वे इन्सान जो नहीं होते) के समझ में आ जाती तो आज हमारी यह दुर्दशा नहीं होती।बहुत बढ़िया पोस्ट लिखी आपने, बधाई।

  3. >सही कहा आपने। हम सब भारतीय हैं।

  4. >सही कहा आपने। हम सब भारतीय हैं।

  5. naveentyagi says:

    >नेहरू की वह पुस्तक नेहरू की तरह झूंठ का पुलिंदा है। नेहरू अपने आप में कितना झूठा व हिंदू विरोधी था यह सच आज सबके सामने खुलता जा रहा है। वृद्ध स्म्रति (छठी शताब्दी)में मन्त्र है,………………………हिंसया दूयते यश्च सदाचरण तत्पर:।वेद्………हिंदु मुख शब्द भाक्। "अर्थात जो सदाचारी वैदिक मार्ग पर चलने वाला, हिंसा से दुख मानने वाला है, वह हिंदु है। पारसी समाज के एक अत्यन्त प्राचीन ग्रन्थ में लिखा है कि,"अक्नुम बिरह्मने व्यास नाम आज हिंद आमद बस दाना कि काल चुना नस्त"।अर्थात व्यास नमक एक ब्र्हामन हिंद से आया जिसके बराबर कोई अक्लमंद नही था।जैसे हजारो तथ्य चीख-चीख कर कहते है की हिंदू शब्द हजारों-हजारों वर्ष पुराना है। tathy kam lage hon to aur bhi de doonga.lekin logo ko jhoonth mat paroso.

  6. >नेहरू की वह पुस्तक नेहरू की तरह झूंठ का पुलिंदा है। नेहरू अपने आप में कितना झूठा व हिंदू विरोधी था यह सच आज सबके सामने खुलता जा रहा है। वृद्ध स्म्रति (छठी शताब्दी)में मन्त्र है,………………………हिंसया दूयते यश्च सदाचरण तत्पर:।वेद्………हिंदु मुख शब्द भाक्। "अर्थात जो सदाचारी वैदिक मार्ग पर चलने वाला, हिंसा से दुख मानने वाला है, वह हिंदु है। पारसी समाज के एक अत्यन्त प्राचीन ग्रन्थ में लिखा है कि,"अक्नुम बिरह्मने व्यास नाम आज हिंद आमद बस दाना कि काल चुना नस्त"।अर्थात व्यास नमक एक ब्र्हामन हिंद से आया जिसके बराबर कोई अक्लमंद नही था।जैसे हजारो तथ्य चीख-चीख कर कहते है की हिंदू शब्द हजारों-हजारों वर्ष पुराना है। tathy kam lage hon to aur bhi de doonga.lekin logo ko jhoonth mat paroso.

  7. mehta says:

    >hinduo ko torne ki sazish rach rhe ho tum soch rhe hoge hindu bahkawe me ajiyenge hindu ka arth bhi jante ho parantu adharm ko hindu bardasht nhi kartajo kisi ka balpurvak dharm pariwartan na karwaye wo hindu hai parantu muslim ya isai paso or talwar ke bal par dharm pariwartan karwane me lipt haihindu saskrity 50000 sal purani hai jis parkar bhagwan shree ram ne rawan or shree karishn ne kans ka vadh kiya asi veerta kisi or dharm me nhi dehne ko milti ye dharm ki adhrm par jeet thi hindu to paro se chity ghayal hone par bhi dukhi ho jata hai kya muslim ya isai me ye dya bhav hai tum muslim ko kitna bhi dudh se dhone ki koshish kar lo akhri sachhaiyhi HAI JHA BHI MUSLIM BHUMAT hua desh bta hai hinduo ne to kbhi mang nhi ki hme alag desh do lekin pakistan muslim bhul hua or desh bta

  8. vikas mehta says:

    >hinduo ko torne ki sazish rach rhe ho tum soch rhe hoge hindu bahkawe me ajiyenge hindu ka arth bhi jante ho parantu adharm ko hindu bardasht nhi kartajo kisi ka balpurvak dharm pariwartan na karwaye wo hindu hai parantu muslim ya isai paso or talwar ke bal par dharm pariwartan karwane me lipt haihindu saskrity 50000 sal purani hai jis parkar bhagwan shree ram ne rawan or shree karishn ne kans ka vadh kiya asi veerta kisi or dharm me nhi dehne ko milti ye dharm ki adhrm par jeet thi hindu to paro se chity ghayal hone par bhi dukhi ho jata hai kya muslim ya isai me ye dya bhav hai tum muslim ko kitna bhi dudh se dhone ki koshish kar lo akhri sachhaiyhi HAI JHA BHI MUSLIM BHUMAT hua desh bta hai hinduo ne to kbhi mang nhi ki hme alag desh do lekin pakistan muslim bhul hua or desh bta

  9. harish singh says:

    >sach kah rahe ho bhai ham sabhi hindu hain. par tumhe samjh pana mushkil hai. tum par hi reserch kiya jana chahiye. kabhi kuch kabhi kuch. harish singh. 7860754250

  10. harish singh says:

    >sach kah rahe ho bhai ham sabhi hindu hain. par tumhe samjh pana mushkil hai. tum par hi reserch kiya jana chahiye. kabhi kuch kabhi kuch. harish singh. 7860754250

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: