स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>… तो उन्हें मनोचिकित्सक को दिखाना चाहिए!

>

औरतों की आज़ादी का उनका दावा एक ढोंग है, जिनके सहारे वो उनके शरीर का शोषण करते हैं, उनकी आत्मा को गंदा करते हैं और उनके मान सम्मान को उनसे वंचित रखते हैं महिला-सशक्तिकरण का हिमायत करने वाला समाज दावा करता है की उसने औरतों को ऊपर उठाया इसके विपरीत उन्होंने उनको रखैल और समाज की तितलियों का स्थान दिया है, जो केवल जिस्मफरोशियों और काम इच्छुओं के हांथों का एक खिलौना है जो कला और संस्कृति के रंग बिरंगे परदे के पीछे छिपे हुए हैं.

महिला-सशक्तिकरण के हिमायती जब तक उन्हें आधी नंगी न कर लें दम नहीं लेंगे।
इस्लाम ने औरतों को समाज में इज्ज़त से जीने का रास्ता मुहैया कराया है. संपत्ति में आधा हिस्सेदार बनाया. इस पर कुछ लोग “गिलास ख़ाली” की प्रवृत्ति के विरोधी कहते है कि इस्लाम में औरत का दर्ज़ा अच्छा नहीं है। मेरे एक लेख ‘छोटे वस्त्र: दुर्व्यवहार करने का न्योता’ के विरोध में कुछ लोगों का यह बयान आया कि हमें (लड़कियों को) अपनी पसंद के कपड़े पहनने की आज़ादी होनी चाहिए। और अगर जिन्हें हमारे (लड़कियों के) छोटे और भड़काऊ कपडों पर आपत्ति हो रही है उनकी मानसिकता ही वासना से भरी हुई है। उनका कहना सही है क्यूंकि अगर वे छोटे वस्त्र पहनेंगी तो यह प्राकृतिक है कि विपरीत लिंग को कुछ न कुछ ज़रूर होगा. इसीलिए इस्लाम में मर्दों को यह सख्त हिदायत दी गयी है कि अगर उनकी निगाह किसी औरत पर पड़े तो उसे चाहिए कि अपनी निगाहें नीची कर के उनसे बात करें. साथ ही साथ औरतों के बारें में भी कुरआन में साफ़ तौर पर शालीनता से रहने का हुक़्म है इसलिए चाहिए कि औरतें उसी लिबास में रहें जिसमें उन्हें रहना चाहिए… न कि यह कह कर पल्ला झाड़ना चाहिए कि मर्दों के मन में वासना होती है।

अरे मोहतरमा ! यह वासना नहीं प्राकृतिक नियम है इसलिए हुक़्म है मर्दों को भी और औरतों को भी. और दोनों ही ईश्वरीय नियम से चलें तो प्राब्लेम कहीं नहीं होगी।

आखिर में मैं यही कहना चाहता हूँ कि अगर किसी मर्द ने आपत्तिजानक वस्त्र में देखा और उसे कुछ-कुछ नहीं हुआ तो उसे मनोचिकित्सक को दिखाने की ज़रूरत है…

Filed under: Uncategorized

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: