स्वच्छ सन्देश: हिन्दोस्तान की आवाज़

Icon

सलीम खान का एक छोटा सा प्रयास

>उम्मीद ही ज़िन्दगी है !

>

निराशा (नाउम्मीदी) मौत के बराबर है, आशा (उम्मीद) जीवन (ज़िन्दगी) है बल्कि उम्मीद ही ज़िन्दगी है जहाँ ज़िन्दगी है वहां उम्मीद है जहाँ उम्मीद नही वहां ज़िन्दगी भी नहीं इसलिए हमेशा अपने मन में उम्मीद की लौ जलाकर रखना चाहिए

एक बार एक सहाबी* के पास एक इन्सान आया वह बहुत ग़मगीन था, निराश था उसने सहाबी से कहा- वह मरना चाहता है, और खुद्कुशी कर लेगा इस ज़िन्दगी से वह नाउम्मीद हो गया है उसने अपनी बात कही और रो पड़ा उसका सोचना था की उसे वो रोकेंगे या उसको किसी समस्या का समाधान करने को उद्धत करेंगे, मगर उसे सहाबी की बात सुनकर झटका लगा
उसकी स्थिति देख कर सहाबी ने कहा- “तुम्हारा मर जाना ही बेहतर है, जो लोग निराशा (नाउम्मीदी) में जीया करते हैं, उनका जीवन मौत से भी बदतर है “
सहाबी की बात से वह दुखी हो गया, कहाँ तो वह सांत्वना की बात सुनने आया था कहाँ सहाबी ने उसे फटकारना शुरू कर दिया उन्होंने कहा- “आशावाद ही निर्माता है आशावाद ही किसी इन्सान का ज़हनी (मानसिक) सूर्योदय है इससे ज़िन्दगी बनती है यानि जीवन का निर्माण होता है, आशावाद से तमाम मानसिक योग्यताओं का जन्म होता है, आशावादी मनुष्य का जीवन ही सार्थक होता है अगर तुम आशावादी नहीं बन सकते हो, तो तुम्हारी ज़िन्दगी बेकार है, खुद्कुशी कर लो और इंसानियत का कलंक न बनो “


सहाबी का यह कथन एक कटु सत्य है क्या आप इनसे सहमत नहीं ?

“निराशा (नाउम्मीदी) मौत के बराबर है आशा (उम्मीद) जीवन (ज़िन्दगी) है बल्कि उम्मीद ही ज़िन्दगी है जहाँ ज़िन्दगी है वहां उम्मीद है जहाँ उम्मीद नही वहां ज़िन्दगी भी नहीं इसलिए हमेशा अपने मन में उम्मीद की लौ जलाकर रखना चाहिए “
—-
मेरा अंतर्मन मुझसे कहता है कि मैं इस क़ायनात की सबसे ज़हीन मखलूक इन्सान की बिरादरी से हूँ, मुझे ईश्वर/अल्लाह ने ज़िन्दगी बक्शी, ज़िन्दगी में तमाम नेमतें दीं, दुनियाँ में मेरा जन्म कीडों मकोडों की तरह रेंगने के लिए नहीं हुआ, मेरा जन्म गरीबी के नरक में सड़ने के लिए नहीं हुआ है मुझे ईश्वर/अल्लाह ने बनाया है किसी न किसी मक़सद के लिए, न कि यूँ ही मेरा इस दुनियाँ में पैदा होना किसी न किसी महान काम के लिए हुआ है मेरे लिए कुछ भी अप्राप्य नहीं है अपनी ज़िन्दगी में अपनी आरज़ू पूरी करने के लिए हर सम्भव प्रयास करना चाहिए क़ामयाबी ज़रूर मिलेगी|
(*सहाबी, वो हैं जिन्होंने हुज़ुरे अक़दस हज़रत मोहम्मद सल्ल० का साथ उनकी रहती ज़िन्दगी में हर मोड़ पर दिया था, जैसे हज़रत अबू बकर सिद्दीक रज़ि०, हज़रत उस्मान रज़ि०, हज़रत उमर रज़ि०, हज़रत अली रज़ि० वगैरह…)

Filed under: आरज़ू, आशा, ज़िन्दगी, सलीमख़ान, स्वच्छसन्देश

One Response

  1. KK Yadava says:

    >पतंगा बार-बार जलता हैदिये के पास जाकरफिर भी वो जाता हैक्योंकि प्यारमर-मिटना भी सिखाता है !…..मदनोत्सव की इस सुखद बेला पर शुभकामनायें !!'शब्द सृजन की ओर' पर मेरी कविता "प्रेम" पर गौर फरमाइयेगा !!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: